जगत पदार्थ है, तो स्त्री वस्तु मात्र

प्रश्न: सर, औरतों को शादी के उपरान्त अपने पति का उपनाम क्यों लगाना पड़ता है? वक्ता: मेघना, अगर देख पाओगी तो बात साफ़-साफ़ खुल जाएगी। तुमने देखा

लिखनी है नयी कहानी?

जीवन की कहानी लिखी जा चुकी है, और उस कहानी से तुम न भटको इसका पूरा इंतज़ाम भी है। यदि स्वयं से प्रेम है तो ही नयी कहानी की संभावना है जो पूर्णतया तुम्हारी होगी। चुनौती स्वीकार है नयी राह बनाने की?

1 2 3 4