मंदिर-जहाँ का शब्द मौन में ले जाये

प्रश्न: ‘अनहता सबद बाजंत भेरी’, कृपया इसका अर्थ बताएँ? वक्ता: मंदिर से जो घंटे, घड़ियाल, ढोल, नगाड़े की आवाज़ आ रही है; वो ‘अनहद’ शब्द है | घंटा जैसे बजता

तुम्हारी असली ताक़त और कमजोरी

असली ताक़त या कमज़ोरी का आधार जानना, प्रेम, आनंद और मुक्ति है| इनको भुला देना कमज़ोरी और इनके साथ जीना ताक़त है| इसके अलावा कोई ताक़त या कमज़ोरी नहीं होती|

1 2 3 4 6