केसरी फ़िल्म, कैसे और बेहतर हो सकती थी?|| आचार्य प्रशांत (2019)

वीरता मूलतः आध्यात्मिक ही होती है।

वीरता कोई अहंकार की बात नहीं होती कि – लड़ जाएँगे, भिड़ जाएँगे, मर जाएँगे।

न।

अहंकार पर आधारित जो वीरता होती है वो बड़ी उथली होती है, थोड़ी दूर चलती है फ़िर गिर जाती है।

ऐसी वीरता जो शहादत को चुनने ले, वो तो आध्यात्मिक ही होगी।