संवेदनशीलता, भावुकता नहीं

संवेदना का अर्थ ये नहीं है कि तुमने किसी
को रोते देखा और तुम रोने लग गए। संवेदना अर्थ है कि तुमने किसी को रोते
देखा और तुम जान गए कि उसका जो कष्ट है, वो कितना नकली है। और जब तुम जान
जाते हो कि कष्ट नकली है, तभी तुम उसके कष्ट का उपचार भी कर सकते हो।

जीवन – अवसर स्वयं को पाने का

नीकौ हूँ लागत बुरौ, बिन औसर जो होय | प्रात भए फीकी लगे, ज्यौं दीपक की लोय || -नागरीदास वक्ता: ‘नीक’ माने अच्छा| जो अच्छा भी

दुःख – सुख की स्मृति

सुख का साथी जगत सब, दुख का नाही कोय । दुःख का साथी साइयां, ‘दादू’ सदगुरु होय ॥              

अध्यात्म क्या है?

प्रश्न: अध्यात्म क्या है? वक्ता: जानना आपका स्वभाव है| और अगर आप साधारण जानने से ही शुरू करें तो आप जो कुछ जानना चाहते हैं, उसके

असली रण अपने विरुद्ध है

कबिरा रण में आइ के, पीछे रहे न सूर | साईं के सन्मुख रहे, जूझे सदा हुजूर || -कबीर प्रश्न: जूझने की बात क्यों की जा रही है ?

प्रेम प्रथम या ध्यान

वक्ता: ऐसा कैसे हो गया कि हर गोपी को लग रहा है कि कृष्ण मेरे ही पास हैं? ऐसा कैसे हो गया? हम जिस द्वैत

1 2 3 4 5 17