ध्यान और योग से मिलने वाले सुखद अनुभव || आचार्य प्रशांत (2019)

सच्चे साधक के लिये, ये सुखद अनुभव प्रेरणा हैं दूनी गति से आगे बढ़ने के।

और जिसे आगे नहीं बढ़ना, उसके लिये ये जाल हैं।

वो रुक जायेगा।

वो कहेगा, “इतना ही काफी है। कौन जाये हिमशिखर पर? पहले जितना ताप था, मैदानों पर जितनी जलन थी, वो अपेक्षतया तो कम हो गयी न। थोड़ा सुकून मिला, इतना ही काफी है”।

ध्यान की सर्वोत्तम पद्धति|| आचार्य प्रशांत (2018)

पद्धतियाँ हज़ारों हैं, लाखों हैं, जो तुम्हारी अवस्था है, उसके हिसाब से पद्धति है।

और ‘ध्यान’ की तुम्हारे लिये उचित पद्धति क्या है, ये तुम्हें ‘ध्यान’ ही बता सकता है।

या तो तुम्हारा ‘ध्यान’, या किसी और का ‘ध्यान’।

धन की क्या महत्ता है? || आचार्य प्रशांत, ओशो पर (2018)

धन अकस्मात नहीं आ जाता। हाथ का मैल नहीं होता वो, भले ही हमारा प्रचलित मुहावरा ऐसा कहता हो।

धन आता है, उसके पास, जो दुनिया को समझता है।

धन कमाना एक कला है, जो माँग करती है कि आपने जगत के दाँव-पेंचों की समझ हो।

जो दुनिया को नहीं जानता, वो दुनिया में धन नहीं कमा सकता।

और ‘दुनिया को जानने’ का अर्थ होता है – मन को जानना।

1 2 3 69