लड़ना हो तो शांत रहकर लड़ना सीखो || आचार्य प्रशांत (2018)

ऐसा लड़ाका चाहिए।

पुर्ज़ा -पुर्ज़ा  कट जाए उसका, अंग-अंग कटके गिर जाए लड़ाई में, फ़िर भी वो लड़ाई से हटे नहीं।

और इस सूरमा की पहचान जानते हो क्या है?

ये अपनी सारी अशांति पीछे छोड़कर जाता है।

ये सिर पहले कटाता है, फ़िर युद्ध में जाता है।

अब अशांत कौन होगा?

ये सिर अशांति का गढ़ था, वो इसको ही पीछे छोड़ आया ।

तो लड़ाई चाहिए, निश्चित रूप से चाहिए।

धर्मयुद्ध चाहिए, लेकिन धर्मयुद्ध वही कर सकता है जो बहुत शांत हो।

अकेले रहना बेहतर है, या दूसरों के साथ? || आचार्य प्रशांत (2019)

युद्ध में तो तुम हो ही।

कृष्ण की सुनने लग जाओ, तो ‘अर्जुन’ कहलाओगे।

कृष्ण की नहीं सुनोगे ,तो मारे जाओगे।