हम दुनिया को डरावनी जगह क्यों मानते हैं?

वक्ता: सवाल ये है, ‘हमारी नज़र हमेशा बुरे को क्यों तलाशती है? अच्छे को नज़र क्यों नहीं तलाशती?’ तुम सोचो कि क्या कारण होते होंगे

समझ और ज्ञान में अन्तर

प्रश्न: सर, मैं इंटेलिजेंस और इन्फ्लुएंस में अंतर समझती हूँ, पर आखिरकार मैं दूसरों से इन्फ्लुएंस हो जाती हूँ। वक्ता: बैठो। क्या नाम है? श्रोता:

जगत पदार्थ है, तो स्त्री वस्तु मात्र

प्रश्न: सर, औरतों को शादी के उपरान्त अपने पति का उपनाम क्यों लगाना पड़ता है? वक्ता: मेघना, अगर देख पाओगी तो बात साफ़-साफ़ खुल जाएगी। तुमने देखा

मन प्रशिक्षण के अनुरूप ही विषय चुनेगा

प्रश्न: मेरी कमज़ोरी यह है कि मैं एकाग्र नहीं हो पाती हूँ। तो एकाग्रता को मैं अपनी ताकत कैसे बनाऊँ? वक्ता: तो सीधे सीधे सवाल

1 2 3 4 5