अकेले रहना बेहतर है, या दूसरों के साथ? || आचार्य प्रशांत (2019)

युद्ध में तो तुम हो ही।

कृष्ण की सुनने लग जाओ, तो ‘अर्जुन’ कहलाओगे।

कृष्ण की नहीं सुनोगे ,तो मारे जाओगे।

अगर लोगों से घुलमिल न पाएँ तो || आचार्य प्रशांत (2019)

अपना भी एकांत रखो, और दूसरे को भी उसके एकांत में रहने दो।

सम्बन्ध रखो तो इसीलिये रखो कि वो तुम्हारी मदद करे, तुम उसकी मदद कर पाओ।

तुम उसे शांति दे पाओ, तुम वो तुम्हें शांति दे पाये।

इससे ज़्यादा किसी की ज़िंदगी में हस्तक्षेप, इससे से ज़्यादा किसी की के आंतरिक दायरे में प्रवेश, अतिक्रमण है।