धोखा कैसे खा जाते हैं हम ?

सीख लेनी है तो अभी से लो। इस समय तुम मुक्त हो क्या कि तुम्हें कल की कहानी याद करनी है? कल से सीख लेने का आश्य क्या है?

और ये बात महत्वपूर्ण है क्योंकि सिखाया हमें यही जाता है कि पिछली गलतियों से सीखो। मैं कह रहा हूँ ठीक अभी जो गलती कर रहे हो, उसका सुधार कौन करेगा? अभी क्या तुम भूल मुक्त हो? ठीक अभी तुम गलती कर रहे हो और अगले क्षण एक नयी गलती होने जा रही है। तुम्हें ध्यान किस पर देना है? ठीक अभी तुम्हारे सामने गलती बैठी हुई है। तुम्हारे पास अवकाश कहाँ है कि तुम पुरानी गलतियों के बारे में सोचो? और जितना पुरानी गलतियों के बारे में सोचोगे, उतनी संभावना बढ़ेगी और गलतियाँ करने की।

बहुत बड़ी गलती है गलती के बारे में सोचना। जिसने गलती के बारे में सोचा, वो गलती पे गलती दोहराएगा।

~आचार्य प्रशांत
_______________

आचार्य प्रशांत से जुड़ने के माध्यम:

अद्वैत बोध शिविर

हर महीने होने वाले इन यह शिविर हिमालय की गोद में, आचार्य जी के नेतृत्व में रह कर दुनिया भर के दुर्लभ शास्त्रों के अध्ययन का अनूठा अवसर हैं।

आवेदन हेतु ईमेल करें requests@prashantadvait.com पर या

संपर्क करें: श्री अंशु शर्मा: +91 – 8376055661

आध्यात्मिक ग्रंथों का शिक्षण (कोर्स)

आचार्य जी द्वारा हर माह चुनिंदा शास्त्रों पर प्रवचन एवं रोज़ मर्रा की ज़िन्दगी में उनकी महत्ता जानने का अवसर।

आवेदन हेतु ईमेल करें requests@prashantadvait.com पर या

संपर्क करें: श्री अपार मेहरोत्रा : +91 9818591240

जागृति माह

जीवन के एक विशेष विषय पर और जीवन के आम दिनचर्या की समस्याओं का हल पाने का अनूठा अवसर। जो लोग व्यक्तिगत रूप से सत्र में मौजूद नहीं हो सकते, वो ऑनलाइन स्काइप या वेबिनार द्वारा बोध सत्र का हिस्सा बन सकते हैं।

आवेदन हेतु ईमेल करें requests@prashantadvait.com पर या

सम्पर्क करें: सुश्री अनुष्का जैन: +91 9818585917

आचार्य जी से निजी साक्षात्कार

आचार्य जी से निजी बातचीत करने का बहुमूल्य अवसर।

आवेदन हेतु ईमेल करें requests@prashantadvait.com पर या

संपर्क करें: सुश्री अनुष्का जैन: +91 9818585917

सम्पादकीय टिप्पणी :

आचार्य प्रशांत द्वारा दिए गये बहुमूल्य व्याख्यान इन पुस्तकों में मौजूद हैं:

अमेज़न: http://tinyurl.com/Acharya-Prashant
फ्लिप्कार्ट: https://goo.gl/fS0zHf

1 2 3