जिन्हें अभी अनुभवों की तलाश हो, वो आध्यात्मिकता से दूर रहें!

काम तो आपके वही आएगा, जो किसी के भी काम आ सकता है, वो है सत्य। काम तो राम ही आएगा। आपकी सारी बातचीत के

ना सुख का आलिंगन ना दुःख का प्रतिकार

हम करते क्या हैं कि अपने सामाजिक लक्ष्यों की पूर्ती  का साधन आध्यात्मिकता को बना लेते है। तो मन की जैसी स्थिति होती है, जैसे

1 2 3 4 5 12