अपने आप को बदलो, ग़लती को नहीं बदलो

ये पछताते मन की साजिश है, सत्य को ओर न देखने की। पछतावा हमारी बड़ी गहरी साजिश होती है। गलतियों को ठीक करने की कोशिश

1 2 3 12