बुरे की क्या परिभाषा है तुम्हारी? ||आचार्य प्रशांत (2016)

जब आनंद आता है, तो उसका रुप कष्ट का होता है।

नतीजा ये होता है कि हम उसे ठुकरा देते हैं। जब मुक्ति आती है तो अपने साथ बंधनों को तोड़ती है। बंधनों को हमने नाम दे रखा है ‘जीवन’ का। मुक्ति आती है तो जीवन टूटता-सा प्रतीत होता है। अब टूट-वूट कुछ नहीं रहा है, कुछ बिगड़ नहीं रहा है, कुछ बुरा नहीं हो रहा है, जो हो रहा है बहुत सुंदर हो रहा है।

कभी पलट के प्रश्न तो कीजिए ‘मुझे कैसे पता कि अब जो हो रहा है वो गलत ही है?’

निश्चितरूप से अपने जीवन को दूसरों की दृष्टि से देख रहे हो।

कहते हैं कबीर ‘जो घर ज़ारे आपना वो चले हमारे साथ’, अब घर जल रहा है कबीर साहब का, घर प्रतीक है वैसे ही समझिएगा, घर जल रहा है कबीर साहब का, कबीर साहब हँस सकते हैं, पड़ोसी क्या कहेंगे?

बेचारा अभागा!

अब अगर पड़ोसियों से पूरी तरह मुक्त नहीं हुए हो तो तुम्हें भी यही लगने लग सकता है कि तुम अभागे हो क्योंकि जब घर जलेगा तो पड़ोसी तो यही कहेंगे, ‘बेचारा अभागा!’

और तुम्हें भी लगेगा कि कुछ बिगड़ गया। जो कबीर है उसे फिर पूर्णतया कबीर हो जाना चाहिए। अधूरा कबीर होना वैसा ही है, जैसा घोड़े से अधूरा उतरना। वहाँ नाहक कष्ट है, या तो पूरे रहो या फिर तुम घोड़े पर ही बैठे रहो।

घोड़ा खुद हीं थोड़े देर में (गिरा देगा)।

जो उतर रहे हों उनसे यही निवेदन है कि पूरा उतरें।

समाज से मिली शर्म (On Osho: Guilt acquired from society) ||आचार्य प्रशांत, ओशो पर (2018)

कोई तुम्हें ज़ोर-जबर्दस्ती से डंडा मार के दबाए तुम विद्रोह कर दोगे, पर कोई तुम्हारे ही मन में घुस के बैठ जाए, तुम्हारे ही मूल्यों को विकृत कर दे, तुम्हें सीखा दे कि जब भी तुम आज़ाद हो के चलना तो अपनी ही नज़र में गिर जाना।

जब भी तुम्हारे भीतर प्रेम उठे तुम अपनी ही नज़र में गिर जाना, जब भी तुम ज़रा पंख फैलाना तुम अपनी ही नज़र में गिर जाना, जब भी तुम झूठ को झूठ बोल पाना, अपनी ही नज़र में गिर जाना।

तो ये बड़ी खौफ़नाक साजिश है इसे ग्लानि कहते हैं।

परोक्ष हिंसा है ग्लानि। कोई बाहर से तुम्हें दबाए तुम्हें हिंसा दिखाई देगी कि यह आया मुझपर दावेदारी करी, मालिक बनके बैठ गया। कोई तुम्हारे भीतर ही बैठ जाता है, और तुम्हें दबा देता है, तुम्हें पता भी नहीं चलता।

क्या बड़ों का सुझाव हमेशा सही होता है? || आचार्य प्रशांत, छात्रों के संग (2014)

एक आदमी, आधे चित्त का है, कभी यहाँ है कभी वहाँ है, दो मिनट को यहाँ रहता है फिर कूद करके वो बाहर पहुँच जाता है, शरीर यहीं है, मन बाहर पहुँच गया, मन चाँद पर बैठा हुआ है, शहर घूम रहा है, चाट खा रहा है, पिक्चर देख रहा है; वो बता पायेगा बातों में दम था कि नहीं?

वो कुछ बोलेगा ज़रूर क्योंकि उसने थोड़ा कुछ सुना है, पर वो जो कुछ भी बोलेगा उल्टा ही होगा, अर्थ का अनर्थ करेगा।

जिसने आधी ही बात सुनी, वो और ज़्यादा खतरनाक है, सोए हुए से ज़्यादा खतरनाक है क्योंकि वो अर्थ का अनर्थ करेगा, वो कहेगा,’नहीं! मैं था, मैं जगा हुआ था’। सोए हुए में कम-से-कम ये अकड़ तो नहीं आएगी, वो कहेगा, ‘भाई! मैंने तो कुछ सुना ही नहीं, मैं सोया हुआ था’।

ये जो अध-जगे होते हैं, ये बहुत खतरनाक हो जाते हैं क्योंकि इनका दावा होता है कि हम तो जगे थे। और जगे ये थे नहीं, समझ में इन्हें कुछ आया नहीं। समझ में किसे आएगा? कौन है जो साफ-साफ देख पाएगा कि बात में दम है कि नहीं, सलाह मानने लायक है कि नहीं? कौन कह पाएगा?

जो जगा हुआ है।

तो बस यही उत्तर है।

शरीर, मन, आत्मा || आचार्य प्रशांत (2016)

जब तुम दिखाते हो कि तुम कितना कर सकते हो, तभी फिर किसी और स्रोत से मदद आ जाती है। किस रूप में आती है जान नहीं पाओगे। कब आती है, कैसे होता है समझोगे नहीं। पर इतना तो समझो कि कोई ज़रूरी नहीं है कि बेईमानी में जिया जाए। जो बुरा लग रहा है उसको बोलो न कि बुरा लगता है। मैं नहीं कह रहा हूँ कि तुम प्रश्न कल्पित करो। पर कोई ऐसा नहीं जिसे दुःख अच्छा लगता हो, एकाकिपन अच्छा लगता हो, जीवन का मिथ्यापन होना अच्छा लगता हो, हम सबको बुरा ही लगता है। पर हमसब इतने समझदार हो गए हैं कि हमने उस जगह पर आ कर के समझौता कर लिया है। हमने कह दिया है कि अब हम शिकायत करेंगे हीं नहीं।

आध्यात्मिकता का अंत होता है ऐसे अनुग्रह के भाव पर जहाँ शिकायतें बचती नहीं।

पर आध्यात्मिकता की शुरुआत होती है बड़ी गहरी शिकायत से।

जिनके पास शिकायत नहीं उनके लिए आध्यात्मिकता नहीं।

आचार्य प्रशांत, छात्रों के संग: करेक्टली नहीं, राइटली जियो (नैतिकता नहीं, धर्म) ||(२०१२)

ढर्रों पर लगातार चलते रहना अंधेपन का लक्षण है।

‘उचित’ मेरी अपनी समझ से आता है। ‘ढर्रे’ हमेशा एक बंधी-बंधाई चीज़ होती है। उचित कभी बंध नहीं सकता। उचित बहुत अलग-अलग चीज़ें हो सकती है। कभी यहाँ भीड़ है तो वहाँ से निकलना उचित है, कभी ये दोनों ही बंद है, तो बीच वाले दरवाजे पर दस्तक देना उचित हो सकता है। कभी आग लगी है तो इसे तोड़ देना भी उचित है। ‘उचित’ कोई एक चीज़ नहीं हो सकती, ‘उचित’ अनंत है, क्योंकि ‘उचित’ मेरी उस समय की समझ से निकलता है।

जीवन ढर्रों पर जीना चाहते हो या उचित जीना चाहते हो?

वो सब कुछ जहाँ तुमने ये मान रखा है कि ऐसे ही करना होता है; समझ लो, की तुम अंधे की तरह व्यवहार कर रहे हो। वो सब कुछ जहाँ तुमने मान रखा है कि जीवन ऐसा ही होता है, बस समझ लो कि तुम ‘ढर्रों’ के फेर में फँस गए हो। वो सब कुछ जहाँ तुमने ये मान रखा है कि यही करना ठीक होता है ना, हमें यही सिखाया गया है कि ये सही है, ये गलत है, ये नैतिक है, ये अनैतिक है। बस, समझ लो कि तुम ‘ढर्रों’ के चक्कर में फँसे हुए हो।

~ आचार्य प्रशांत

————————————————-

निम्नलिखित माध्यमों से दुनिया के हर कोने से लोग आचार्य जी से जुड़ रहे हैं :-

१. आचार्य जी से निजी साक्षात्कार:
यह एक अभूतपूर्व अवसर है आचार्य जी से मुखातिब होकर उनसे निजी मुद्दों पर चर्चा करने का। यह सुविधा ऑनलाइन भी उपलब्ध है।
~~~~~
२: अद्वैत बोध शिविर:
अद्वैत बोध शिविर आचार्य जी के सानिध्य में समय बिताने का एक अद्भुत अवसर है। इन बोध शिविरों में दुनिया भर से लोग, अपने व्यस्त जीवन से चार दिन निकालकर, प्रकृति की गोद में शास्त्रों का गहन अध्ययन करते हैं और उनसे प्राप्त शिक्षा की प्रासंगिता अपने जीवन में देख पाते हैं। ऋषिकेश, शिवपुरी, मुक्तेश्वर, जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क, चोपटा, कैंचीधाम जैसे नैनाभिराम स्थानों पर आयोजित अनेकों बोध शिविरों में सैकड़ों लोग आच्रार्य जी के आशीर्वचनों से कृतार्थ हुए हैं।
~~~~~
३. आध्यात्मिक ग्रंथों पर कोर्स:
आध्यात्मिक ग्रंथों पर कोर्स, आचार्य प्रशांत के नेतृत्व में होने वाले क्लासरूम आधारित सत्र हैं। सत्र में आचार्य जी द्वारा चुने गये दुर्लभ आध्यात्मिक ग्रंथों के गहन अध्ययन के माध्यम से साधक बोध को उपलब्ध हो पाते हैं।
~~~~~
४. जागरुकता का महीना:
फाउंडेशन हर माह जीवन-सम्बन्धित एक आधारभूत विषय पर आचार्य जी के सत्रों की एक श्रृंखला आयोजित करता है। जो व्यक्ति बोध-सत्र में व्यक्तिगत रूप से मौजूद नहीं हो सकते, उन्हें फाउंडेशन की ओर से चुनिंदा सत्रों का ऑनलाइन प्रसारण उपलब्ध कराया जाता है। इस सुविधा द्वारा सभी साधक शारीरिक रूप से दूर रहकर भी, आचार्य जी के सत्रों में सम्मिलित हो पाते हैं।
~~~~~
५. आचार्य जी के साथ एक दिन
‘आचार्य जी के साथ एक दिन’ एक अनूठा अवसर है जिज्ञासुओं के लिए जो, इस पहल के माध्यम से अद्वैत आश्रम – ग्रेटर नॉएडा में हर महीने, एक पूरे दिन का समय आचार्य जी के साथ व्यतीत कर पाते हैं।
~~~~~
६. पार से उपहार : आचार्य जी के साथ सप्ताहंत
‘पार से उपहार’ एक सुनहरा प्रयास है आचार्य जी के सानिध्य में रहकर स्वयं को जान पाने का। इसका आयोजन प्रति माह, २ दिन और २ रातों के लिए, अद्वैत आश्रम – ग्रेटर नॉएडा में होता है।
~~~~~~
७. स्टूडियो कबीर
स्टूडियो कबीर एक ऐसी पहल है जो आज के प्रचलित संस्कृति में आदिकाल से पूजनीय संतों व ग्रंथों द्वारा प्रतिपादित बोध का पठन-पाठन एक संगीतमय तरीके से करती है। आम जनमानस में संतों व ग्रंथों के गीतों की लोकप्रियता बढ़ सके, इसके लिए स्टूडियो कबीर उन गीतों को याद करवाने का और सुंदर गीतों के माध्यम से प्रस्तुत करने के अथक प्रयास में संलग्न है।
~~~~~
८. फ्री-हार्ट्स शिविर: एक नयी दृष्टि में अध्यात्म
यह शिविर हर उस व्यक्ति के लिए है जो दिल से युवा हैं। इस शिविर के अंतर्गत आपसी सौहार्द्य और मैत्री का वर्धन, मनोवैज्ञानिक तथ्यों से रूबरू होना, जीवन की ग्रंथियों को सुलझाना, ध्यान की अभिनव विधियों का प्रयोग करना, नृत्य, गायन, कला-प्रदर्शन करना आदि शामिल है।
~~~~~~
९. त्रियोग:
त्रियोग हठ-योग, भक्ति-योग और ज्ञान-योग का अभूतपूर्व सम्मिश्रण है, जिसमें सम्पूर्ण स्वास्थ्य और सर्वांगीण विकास की प्राप्ति हेतु २ घंटे के योग-सत्र का अनूठा आयोजन किया जाता है।
~~~~~~
१०. बोध-पुस्तक
जीवन के महत्वपूर्ण विषयों पर आचार्य जी के व्यक्तव्यों का बेहतरीन संकलन हिंदी व अंग्रेजी भाषा में पुस्तकों के रूप में अमेज़न और फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध हैं:

अमेज़न: http://tinyurl.com/Acharya-Prashant

फ्लिपकार्ट: http://tinyurl.com/AcharyaBooks

~~~~~~
इन सुन्दरतम व अनोखी पहलों में भाग लेने के लिए, अपने आवेदन requests@prashantadvait.comपर भेजें, या श्री कुन्दन सिंह से संपर्क करें: +91-9999102998

आचार्य प्रशांत, छात्रों के संग: भ्रष्ट जीवन का लक्षण है भ्रष्ट भाषा || (२०१२)

जीवन में, आप किसी चीज़ में श्रेष्ठ नहीं हो। तो भाषा में श्रेष्ठ हो जाओगे? जबकि, ‘श्रेष्ठता’ से जीना, जीवन की एक कला है। मैं किसी भी चीज़ में उत्कृष्ट होने की आकांक्षा नहीं करता। तो मैं भाषा में कैसे उत्कृष्टता की आकांक्षा कर लूँ? मेरा तो पूरे जीवन के प्रति रवैया ही यही है कि ‘सब चलता है’। शुद्धि-अशुद्धि ‘सब चलती है’, तो नतीजा — जो ग़लतियाँ मैं पहले करता रहता था, मेरा कोई इरादा ही नहीं है उनको ठीक करने का।

ग़लत भाषा, ग़लत जीवन से पैदा होती है।

~ आचार्य प्रशांत

————————————————-

निम्नलिखित माध्यमों से दुनिया के हर कोने से लोग आचार्य जी से जुड़ रहे हैं :-

१. आचार्य जी से निजी साक्षात्कार:
यह एक अभूतपूर्व अवसर है आचार्य जी से मुखातिब होकर उनसे निजी मुद्दों पर चर्चा करने का। यह सुविधा ऑनलाइन भी उपलब्ध है।
~~~~~
२: अद्वैत बोध शिविर:
अद्वैत बोध शिविर आचार्य जी के सानिध्य में समय बिताने का एक अद्भुत अवसर है। इन बोध शिविरों में दुनिया भर से लोग, अपने व्यस्त जीवन से चार दिन निकालकर, प्रकृति की गोद में शास्त्रों का गहन अध्ययन करते हैं और उनसे प्राप्त शिक्षा की प्रासंगिता अपने जीवन में देख पाते हैं। ऋषिकेश, शिवपुरी, मुक्तेश्वर, जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क, चोपटा, कैंचीधाम जैसे नैनाभिराम स्थानों पर आयोजित अनेकों बोध शिविरों में सैकड़ों लोग आच्रार्य जी के आशीर्वचनों से कृतार्थ हुए हैं।
~~~~~
३. आध्यात्मिक ग्रंथों पर कोर्स:
आध्यात्मिक ग्रंथों पर कोर्स, आचार्य प्रशांत के नेतृत्व में होने वाले क्लासरूम आधारित सत्र हैं। सत्र में आचार्य जी द्वारा चुने गये दुर्लभ आध्यात्मिक ग्रंथों के गहन अध्ययन के माध्यम से साधक बोध को उपलब्ध हो पाते हैं।
~~~~~
४. जागरुकता का महीना:
फाउंडेशन हर माह जीवन-सम्बन्धित एक आधारभूत विषय पर आचार्य जी के सत्रों की एक श्रृंखला आयोजित करता है। जो व्यक्ति बोध-सत्र में व्यक्तिगत रूप से मौजूद नहीं हो सकते, उन्हें फाउंडेशन की ओर से चुनिंदा सत्रों का ऑनलाइन प्रसारण उपलब्ध कराया जाता है। इस सुविधा द्वारा सभी साधक शारीरिक रूप से दूर रहकर भी, आचार्य जी के सत्रों में सम्मिलित हो पाते हैं।
~~~~~
५. आचार्य जी के साथ एक दिन
‘आचार्य जी के साथ एक दिन’ एक अनूठा अवसर है जिज्ञासुओं के लिए जो, इस पहल के माध्यम से अद्वैत आश्रम – ग्रेटर नॉएडा में हर महीने, एक पूरे दिन का समय आचार्य जी के साथ व्यतीत कर पाते हैं।
~~~~~
६. पार से उपहार : आचार्य जी के साथ सप्ताहंत
‘पार से उपहार’ एक सुनहरा प्रयास है आचार्य जी के सानिध्य में रहकर स्वयं को जान पाने का। इसका आयोजन प्रति माह, २ दिन और २ रातों के लिए, अद्वैत आश्रम – ग्रेटर नॉएडा में होता है।
~~~~~~
७. स्टूडियो कबीर
स्टूडियो कबीर एक ऐसी पहल है जो आज के प्रचलित संस्कृति में आदिकाल से पूजनीय संतों व ग्रंथों द्वारा प्रतिपादित बोध का पठन-पाठन एक संगीतमय तरीके से करती है। आम जनमानस में संतों व ग्रंथों के गीतों की लोकप्रियता बढ़ सके, इसके लिए स्टूडियो कबीर उन गीतों को याद करवाने का और सुंदर गीतों के माध्यम से प्रस्तुत करने के अथक प्रयास में संलग्न है।
~~~~~
८. फ्री-हार्ट्स शिविर: एक नयी दृष्टि में अध्यात्म
यह शिविर हर उस व्यक्ति के लिए है जो दिल से युवा हैं। इस शिविर के अंतर्गत आपसी सौहार्द्य और मैत्री का वर्धन, मनोवैज्ञानिक तथ्यों से रूबरू होना, जीवन की ग्रंथियों को सुलझाना, ध्यान की अभिनव विधियों का प्रयोग करना, नृत्य, गायन, कला-प्रदर्शन करना आदि शामिल है।
~~~~~~
९. त्रियोग:
त्रियोग हठ-योग, भक्ति-योग और ज्ञान-योग का अभूतपूर्व सम्मिश्रण है, जिसमें सम्पूर्ण स्वास्थ्य और सर्वांगीण विकास की प्राप्ति हेतु २ घंटे के योग-सत्र का अनूठा आयोजन किया जाता है।
~~~~~~
१०. बोध-पुस्तक
जीवन के महत्वपूर्ण विषयों पर आचार्य जी के व्यक्तव्यों का बेहतरीन संकलन हिंदी व अंग्रेजी भाषा में पुस्तकों के रूप में अमेज़न और फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध हैं:

अमेज़न: http://tinyurl.com/Acharya-Prashant

फ्लिपकार्ट: http://tinyurl.com/AcharyaBooks

~~~~~~
इन सुन्दरतम व अनोखी पहलों में भाग लेने के लिए, अपने आवेदन requests@prashantadvait.comपर भेजें, या श्री कुन्दन सिंह से संपर्क करें: +91-9999102998

1 2 3 4 19