क्रिकेट हो या जीवन, जीतने के लिए ही मत खेलो || आचार्य प्रशांत (2019)

आचार्य प्रशांत जी से निजी रूप से मिलने व जुड़ने हेतु यहाँ क्लिक करें


क्रिकेट हो या जीवन, जीतने के लिए ही मत खेलो

प्रश्न: आचार्य जी, मुझे डर रहता है कि मैं क्रिकेट के मैदान में आउट हो जाऊँगा। मन बार-बार यही याद दिलाता है कि – अगर आउट हो गया तो? ऐसा लगता है मैं स्वयं से ही लड़ रहा हूँ। कुछ भी हो, मुझे बिना लड़े खेलना है। और मैं जब बिना डर के खेलता हूँ, तो रन भी बनते हैं। मैं क्या करूँ? कृपया मार्गदर्शन करें।

आचार्य प्रशांत जी: जीतने के लिये मत खेलो। ये बात सुनने में अजीब लगेगी क्योंकि खेल का तो उद्देश्य ही जीतना बताया गया है हमें।

तुम खेलो वो सर्वश्रेष्ठ कर सकने के लिये, जो तुम कर सकते हो।

और जो सर्वश्रेष्ठ तुम कर सकते हो, वो जीतने से ज़्यादा ऊपर की बात है।

जीत उसके सामने छोटी चीज़ है।

तुम अपना सर्वश्रेष्ठ करो, उसके बाद तुम जीते तो जीते, अगर हारे भी, तो वो हार एक तल पर जीत से बेहतर होगी। 

अगर सिर्फ तुम जीतने का उद्देश्य लेकर चल रहे हो, तो तुम्हारे दिमाग पर सामने वाला पक्ष ही हावी रहेगा। तुम यही देखते रहोगे कि दूसरा जैसा है, उससे बेहतर हो जाओ। और दूसरे का कुछ  भरोसा नहीं। हो सकता है दूसरा बहुत कमज़ोर हो। बहुत कमज़ोर है दूसरा, उससे जीतकर क्या करोगे? कभी लगे दूसरा, तुम्हें लगे बहुत मज़बूत है, पर उसकी मज़बूती, बस तुम्हारी दृष्टि में है।

दूसरे से होड़ मत करो, स्वयं से होड़ करो।

और फिर जो उन्नति होती है, फिर जो खिलाड़ी का खेल चमकता है, उसकी बात दूसरी होती है।

फिर जीत छोटी चीज़ हो जाती है।

उसके बाद मैंने कहा – हार में भी जीत होती है। 

प्रश्नकर्ता: आचार्य जी, आप क्रिकेट के शौकीन रहे हैं। अभी भारत और वेस्ट इंडीज़ के बीच मैच चल रहा है, पहली पारी अभी ख़त्म हुई है। भारतीय बल्लेबाज़ों का एक अलग ही तरीका रहा है खेलने का। आप उसपर कुछ कहना चाहेंगे?

आचार्य जी:

हर व्यक्ति अच्छा होता है कि प्रतिद्वंदी और परिस्थियों को बहुत ज़्यादा ख़याल में न लेते हुए, लगातार अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करे। अगर आप कहेंगे कि सामने प्रतिद्वंदी थोड़ा हल्का है, इसीलिये उसके सामने आराम से खेला जा सकता है, अपने आप को बहुत खींचने की, अपने आप को बहुत परेशान करने की, बहुत पसीना बहाने की ज़रुरत नहीं है, तो ये आदत बन जायेगी। 

इसीलिये, भले ही आपका मुकाबला सबसे कमज़ोर टीम से भी चाहे क्यों न हो, उसके सामने भी आपको अपने आप को पूरी तरह से चुनौती देते हुए, अपना शत-प्रतिशत ही देना चाहिये।

उत्कृष्टता, जीने का एक तरीका होती है।

आप ये नहीं कह सकते कि आप किन्हीं ख़ास मौकों पर, किन्हीं ख़ास मैचों में, एक्सीलेंस(उत्कृष्टता) दर्शायेंगे। और बाकी साधारण, आम अवसरों पर थोड़ा कमज़ोर टीमों के सामने आप औसत दर्जे का खेल दिखायेंगे। औसत दर्जे का खेल दिखाना, आपको लगता है कि आपका चुनाव है। और वो चुनाव आपको पता भी नहीं चलेगा, कब आपकी आदत, आपकी मजबूरी बन जायेगा। 

आज आप शायद सोचते हों कि यूँही हल्का खेल गये, कल आपको पता चलेगा कि आप चाहेंगे भी जमकर खेलना, चौड़ा होकर खेलना, तो आपको दिक्कतें आ जायेंगी, क्योंकि मन, शरीर, ये सब तो अभ्यास पर चलते हैं।

इसीलिये, परिणाम की चिंता न करते हुए, प्रतिपक्षी की चिंता न करते हुए, जीवन के हर मैदान में, खिलाड़ी का धर्म है कि वो लगातार उत्कृष्टता की ही पूजा करे।

चाहे क्रिकेट का मैदान हो, चाहे जीवन का कोई भी क्षेत्र हो।


शब्द-योग सत्र से उद्धरित। स्पष्टता हेतु सम्पादित।

विडियो सत्संग देखें: क्रिकेट हो या जीवन, जीतने के लिए ही मत खेलो || आचार्य प्रशांत (2019

आचार्य प्रशांत जी से निजी रूप से मिलने व जुड़ने हेतु यहाँ क्लिक करें

पेपाल द्वारा

($10 के गुणक में)

$10.00

पेटीऍम द्वारा योगदान देने हेतु @ +91-9999102998

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s