लोग क्या कहेंगे? || आचार्य प्रशांत, युवाओं के संग (2013)

आचार्य प्रशांत जी से निजी रूप से मिलने व जुड़ने हेतु यहाँ क्लिक करें

प्रश्न: हमें पता होता है कि जो लोग हैं उन्हें हमसे कोई मतलब नहीं है, तब भी हमारे मन में ये ख़याल आ जाता है कि लोग क्या सोचेंगे। ऐसा क्यों होता है?

आचार्य प्रशांत: ये सिर्फ़ तुम्हारे नहीं, मेरे मन में भी आ जाता है। इसमें कौन-सी बड़ी बात है? हमारा जो मस्तिष्क है, वो सुविधा के लिए संस्कारित है। तो यह जो ख़याल आ रहा है, ये सामाजिक सुविधा है कि दुनिया मेरे बारे में क्या सोचेगी। और मैं तुम्हें बता रहा हूँ, कोई ऐसा नहीं है जिसे ये ख़याल नहीं आता। कोई भी नहीं है। तुम हो या मैं, सबको आता है। आने के बाद क्या हो सकता है, उसमें थोड़ा अंतर आ सकता है।

एक बन्दे को ये ख़याल आता है, और बस ख़याल ही आता है। और दूसरे बन्दे को ये ख़याल आता है, और वो इस ख़याल से लड़ता नहीं, उसे स्वीकारता है। और देख लेता है कि – अच्छा ये ख़याल आ रहा है। ठीक है?

‘मैं अपना काम कर रहा हूँ’ – यह ख़याल को देखना हो गया। मैं इस बात को भी देख रहा हूँ कि – मुझे यह ख़याल आ रहा है’। मैं इस बात को भी देख रहा हूँ कि दस लोगों के सामने पड़ते ही मैं चौक जाता हूँ, और इस बात को भी सोचने लगता हूँ कि – ‘लोग क्या कहेंगे’।

सभी को लगता है। किसको नहीं लगता?

लेकिन लगने के बाद फ़र्क होता है लोगों में।

कुछ लोग होते हैं जिनको जैसे ही ये लगा, वो वहीं रुक जाते हैं कि – लोग क्या सोचेंगे।

दूसरे होंगे, उन्हें लगेगा कि – ‘जनता क्या बोलगी,’ पर वो कहेंगे, “अच्छा, ख़याल ही तो है! ख़याल का तो काम है ये बोलना। मस्तिष्क ही तो है। मस्तिष्क और करेगा क्या? मशीन ही तो है। मशीन की कार्यरचना है कि दूसरों के राय-मशवरों को देखो, सुविधा की परवाह करो, आदर की परवाह करो। तो ये परवाह कर रहा है, इसे करने दो।”

ये देखना हो गया।

और मैंने ये बिलकुल भी नहीं कहा कि हर चीज़ को ध्यानपूर्वक देखो, क्योंकि ध्यान देना इन्द्रियों और मन पर आश्रित है और ये तो सीमित है। तुम हर चीज़ को कैसे ध्यानपूर्वक देख पाओगे? मैंने यह कहा, “जो भी देखो, पूरा देखा।” मैंने ये नहीं कहा कि सब कुछ देखो।

ध्यान देना हमेशा वस्तु-विशेष होता है, ध्यान देने के लिए हमेशा एक वस्तु होती है। अब तुम दुनियाभर की वस्तुओं को थोड़ी देख पाओगे कि उनका ध्यान कर सकते हो। एक समय पर तुम एक-दो ही तो वस्तु पर ध्यान दे रहे होगे। जिसपर भी ध्यान दो, पूरा ध्यान दो। इस भूल में मत पड़ जाना कि मुझे सब कुछ ध्यान देना है। जो भी देखो, लेकिन साफ़-साफ़ देखो, इमानदारी से देखो।

सौ किताब नहीं पढ़नी है। एक किताब पढ़ो, पर उस किताब में घुस जाओ। उस एक किताब में पूरी तरह से घुस जाओ।


वीडियो सत्र: लोग क्या कहेंगे? || आचार्य प्रशांत, युवाओं के संग (2013)


आचार्य जी से और निकटता के इच्छुक हैं? प्रतिदिन उनके जीवन और कार्य की सजीव झलकें और खबरें पाने के लिए : पैट्रन बनें  !

इस लेख और अभियान को और लोगों तक पहुँचाने में भागीदार बनें :

  • पेटीऍम (Paytm) द्वारा: +91-9999102998
  • पेपाल (PayPal) द्वारा:

अनुदान राशि

($5 के गुणक में)

$5.00


आचार्य प्रशांत से निजी साक्षात्कार हेतु आवेदन करें

अथवा, संस्था से 9643750710 पर संपर्क करें, या requests@advait.org.in पर ईमेल करें।