जल्दबाज़ी मत करो

ये जो अधैर्य होता है ना, ये खुद माया की बहुत बड़ी साज़िश होती है।

ये माया की बहुत बड़ी साज़िश होती है। पकने से पहले, परिणाम आने से पहले ही परिणाम घोषित कर दो और याद रखना पकने से पहले हर चीज़ ज़रा अजीब और ज़रा डरावनी ही लगती है।

जल्दबाज़ी मत करो। जल्दबाज़ी की कोई जरूरत नहीं है। जो चल रहा है उसको चलने दो, सतर्क रहो। एक बिंदु आएगा, जब तुम कर्म को रोक पाओगे ही नहीं। वो तुम्हारे भीतर बम की तरह फटेगा और जब तक वो हो नहीं रहा तब तक अपने आपको धक्का मत दो। मैं ये भी नहीं कह रहा हूँ कि अपने आप को रोक लो। दोनों ही काम बिल्कुल गलत हैं।



पूरा लेख पढ़ें: आचार्य प्रशांत: मन को बदलने दो, बाहरी माहौल खुद ही बदल जाएगा