असुर – अवतार

 
26544276538_ca53db8571_o
भारत के धर्म – परायण आस्तिकों,
स्मरण है, 
इतिहास में एक असुर ऐसा भी हुआ,
एक मरा, तो सौ का जन्म हुआ,
शक्ति ने उसे तो संहार दिया।
पर जगो, 
अब वह शक्ति कहाँ पाओगे?
हर अंग्रेज पर, 
सौ भारतीय अंग्रेज़
संहार सके —
ऐसा अवतार अब कहाँ से लाओगे?
~ आचार्य प्रशांत (1995)

One comment

Leave a Reply