सीख पाना मुश्किल क्यों?

New Microsoft Office PowerPoint Presentation (2)प्रश्न: आचार्य जी, मैं आपकी सभी बातें पूर्ण रूप से ग्रहण नहीं कर पाता, मैं क्या करूँ?

आचार्य प्रशांत: तुम फँस इसीलिए जाते हो क्योंकि तुम्हें तकलीफ़ सिर्फ तब होती है जब ऊँचे काम खराब होते हैं, कि ऊँचा काम हो रहा था और मैं किसी निचले केंद्र में ही अटक के रह गया।

नहीं नहीं।

बड़ी-बड़ी बातों में असफल रहो तो छोटी बातों की ओर ध्यान दो। बड़ी बात चल रही है और उसमें तुम शिरकत करने आये और तुमने पाया कि मेरा तो मन छोटा है, तो, ये बात उस क्षण की है ही नहीं। ये गलती उस क्षण में नहीं हुई है, ये अभ्यास पुराना है। छोटी-छोटी बातों में सतर्क रहोगे तो बड़ी बातों में दिक्कत नहीं होगी।

बात समझ रहे हो?

अब यहाँ बैठ कर के मान लो मैं बोल रहा हूँ, तो ऐसा लगता है जैसे ये बड़ा आयोजन है, ये बड़ी बात है। और इस वक़्त अगर तुम पाओ कि तुम ठीक से नहीं सुन पा रहे हो, या तुम्हारा केंद्र अभी भी ओछा है, तो उसकी वजह ये थोड़े ही है कि ठीक अभी कोई गड़बड़ हो गयी है। मैं इस वक़्त जो बोल रहा हूँ तुम उसे वास्तव में सुन पाओ और तुम उससे लाभान्वित हो पाओ, वो इस पर निर्भर करेगा कि दिन भर मैं तुम्हारी नज़र में क्या रहा हूँ। अगर दिन भर तुम मुझे वहीँ नहीं रख रहे जहाँ इस वक़्त रखना चाहिए, तो इस वक़्त भी तुम मुझे वहाँ नहीं रख पाओगे जहाँ इस वक़्त रखना चाहिए। समझ रहे हो ना?

इसीलिए, अब इसी दिशा में आगे बढ़ रहा हूँ।

इसीलिए,

गुरु की उपस्थिति सबसे बड़ा अनुशासन होती है। उपस्थिति भी, अनुपस्थिति भी। जब वो गुरु सा आचरण न कर रहा हो, उस वक़्त अगर ढीले पड़ गए, तो तुम उस क्षण से भी चूक जाओगे जब वो गुरु सा आचरण कर रहा होगा।

अब वो खेल रहा है तुम्हारे साथ रेत पर, ठीक है? और उस वक़्त तुमनें कहा कि अभी तो हम ढील ले सकते हैं इसके साथ, तो तुम चूके। अब तुम तब भी उसे ठीक से नहीं सुन पाओगे, जब वो प्रवचन देता होगा, संदेश देता होगा, शिक्षा देता होगा। छोटी-छोटी बातों में सतर्क रहना होता है। तुम ये थोड़ी ही कर सकते हो कि दोपहर में तुम गुरु के प्रति एक भाव रखो, शंका का या अनादर का, या द्वंद्व  का; और शाम को जब वो बोलने आए तो तुम अचानक बहुत बड़े श्रवण कुमार हो जाओ कि अब तो हम सब सुन लेंगे। तुम्हारा सुनना हो ही नहीं पाएगा क्योंकि दिन भर तुम उसके सामने नतमस्तक नहीं थे।

उसे अगर रात को सुनना है ठीक से, तो दिन भर उसके सामने तुम वैसा ही रहो जैसा उसके सामने तुम्हें प्रवचन में होना चाहिए, सतसंग में होना चाहिए। तुम ये थोड़े ही कर सकते हो कि अभी थोड़ी देर पहले तो तुम पीठ पीछे ऊटपटांग बात करो और फिर सामने आओ तो तुम्हें गुरु के वचनों का सारा लाभ मिल जाए, सारा सार पता चल जाए। नहीं, वो नहीं हो पाएगा। छोटी बातों में सतर्क रहो, बहुत तगड़ा अनुशासन रखो। समझ रहे हो?

गुरु और गुरु के निर्देश एक होते हैं, उन निर्देशों का अगर तुम कभी भी उल्लंघन कर रहे हो तो समझ लेना कि फिर…। जब सार की बात आएगी तुम्हारे सामने, जिसको तुम सार कहते हो, फिर वो भी नहीं मिलेगी तुमको। प्रथम बात तो यह है कि सार की बात गुरु से कभी-कभी ही नहीं आती। वो लगातार आती रहती है पर तुम भेद करते हो। तुम कहते हो, “यूँ ही कुछ बता दिया तो वो ज़रा हल्की बात है, और सत्र में कुछ बताया, सतसंग में कुछ बताया, तो वो कीमती बात है।”

यूँ ही कुछ बता दिया चलते फिरते तो तुम्हें उसका उल्लंघन करते दो क्षण नहीं लगते। तुम बड़ी आसानी से कहते हो, “ये बात हम नहीं मान रहे।” अरे भाई, तब नहीं मानोगे तो अब कैसे मान लोगे, बताने वाला तो एक ही है। तब तुमनें उसकी बात नहीं मानी, अब कैसे मान लोगे? या तो तुम्हें उसकी बात सदा माननी पड़ेगी या तो तुम पाओगे कि तुम उसकी बात कभी नहीं मान पा रहे। और मजबूरी हो जाएगी तुम्हारी कि तुम मान ही नहीं पा रहे उसकी बात। माननी है तो पूरी मानो।

और अगर जान जाओ कि उसकी एक बात में भी सच्चाई है, तो फिर उसकी हर बात मानना क्योंकि एक बात कभी पृथक नहीं होती। अगर तुम सच्चा जीवन नहीं जी रहे तो एक बात भी सच्ची नहीं बोल सकते। और अगर एक बात वास्तव में बोल गया सच्ची तो फिर उसका पूरा जीवन सच्चा होगा, भले तुम्हें वो सच्चा प्रतीत होता हो या न होता हो।

तो, या तो ये कह दो कि इनकी कोई बात सच्ची नहीं। या फिर चुपचाप मान लो कि पूरा जीवन ही सच्चा होगा, मैं बाँट के न देखूँ, ये ना कहूँ के यहाँ तक तो ठीक है और उसके आगे संदेह का घेरा है, ना। छोटी छोटी बातों में बहुत सात्विक अनुशासन रखो।

इसीलिए ये सब नियम बने थे कि गुरु के समक्ष कैसी मर्यादा रखनी है, कैसे उसको सम्बोधित करना है, ताकि तुम्हें प्रतिपल याद रहे कि तुम कौन हो और तुम्हें कहाँ जाना है। और जो उन मर्यादाओं का पालन नहीं कर रहा है वो फिर भटकता ही रह जाएगा। वो मर्यादाएँ बहुत-बहुत आवश्यक हैं। और, वो छोटी-छोटी बातें होती हैं। गुरु ने भोजन कर लिया? हाँ, तब हम खाएँगे। उसके आसान से ज़रा अपना आसन नीचा ही रखेंगे। आवाज़ नहीं ऊँची करेंगे। अगर वो कोई निर्देश दे कर गया है, तो भले वो पांच दिन अनुपस्थित है, उस निर्देश का शब्दशः पालन होगा।

ये अनुशासन जब रहते हैं तो फिर जब बड़ी चीज़ भी आती है तो तुम पाते हो कि केंद्र हमारा तैयार है उस बड़ी चीज़ को ग्रहण करने के लिए। केंद्र को तैयार कर के लाना होता है। और वो केंद्र की तैयारी अचानक किसी बड़े घटना में, बड़े आयोजन में नहीं होगी, उसकी पीछे-पीछे तैयारी करनी होती है। दिन भर तैयारी करो उस मन को उपस्थित करने की। उस मन को पकाने की, उस मन को परिपक्व करने की। जो फिर शाम को सतसंग से पूरा लाभ उठा सके। दिन भर तुमनें वो मन तैयार नहीं किया तो शाम का सत्संग तुम पर व्यर्थ जाएगा।

श्रोता: आचार्य जी, मर्यादाओं का पालन करने के लिये भी एक सही केंद्र चाहिये, और सही केंद्र बनेगा भी मर्यादाओं के पालन से।

वक्ता: वो सही केंद्र बनता है अपनी खराब हालत देख कर। गलत केंद्र पर हो तो हालत किसकी खराब है? अपनी। अपनी हालत देख कर के अपना निवर्तमान केंद्र छोड़ देना होता है। कि इस केंद्र पर रह कर तो ये हालत बनी है। जिस भावना में जीता हूँ, जिस ज़िद्द के साथ जीता हूँ, जो अपने आप को समझ कर जीता हूँ, उसके साथ तो हालत खस्ता ही है। तो उसको छोड़ो ना।

श्रोताआचार्य जी, कुछ चीज़ें होती हैं, जैसे दस चीज़ें हैं और सात में गड़बड़ी होती है और दिखती है। तीन में होती है पर उसमें यही भावना रहती है कि स्लिप इट अंडर द रैग। मतलब उसमें है, लेकिन अभी उसे नहीं देखते हैं। तो उसका भी ये प्रभाव पड़ता है कि उससे भी केंद्र आपका अलग हो जाता है?

वक्ता: ये सब करोगे ही, कुछ कहीं कहीं राज़ खुल जाएगा कि गड़बड़ हुई है, कहीं कहीं छुपा रहेगा, कभी छुपाओगे, कभी ये सब करोगे। ये सारी बातें बहुत महत्व की नहीं हैं। महत्त्व की बात तो यही है। होमवर्क कर के आओ, फिर क्लास का पूरा आनंद मिलेगा। सतसंग में आने से पहले गुरु के प्रति पूर्ण निष्ठा का अभ्यास कर के आओ।

ऐसे थोड़े ही कि कैसा भी मन ले के, शंकित, संदेहग्रस्त, यहाँ सतसंग में बैठ गए; तुम्हें क्या मिलेगा? कुछ नहीं मिलेगा। और फिर तुम खाली हाथ जाओगे झुनझुना बजाते हुए कि हमें तो कुछ मिला नहीं, हमें तो कुछ मिला नहीं। तुम्हें मिल भी कैसे सकता था? तुम्हारे पात्र में छेद ही छेद हैं, तुम्हें क्या मिलता? गुरु से कुछ पाने के लिए पहले पाने की पूरी तैयारी करनी पड़ती है। उसी को तपस्या, अनुशासन कहते हैं।

दिन भर ऐसे रहो जैसे सत्संग में हो। फिर जब सत्संग आएगा, फिर जब सिखाया जाएगा, दीक्षा मिलेगी, तो वो तुम ग्रहण कर पाओगे। गुरु दो नहीं होते, सच्चाई दो नहीं होती, या दो होती है? गुरु, गोविन्द अगर एक हैं तो कितने गोविन्द होते हैं? पांच, सात? तो, गुरु दो कैसे हो गए कि जब तक इस कुर्सी पर बैठे हैं एक हैं, और इस कुर्सी से उठ कर के चले तो तुमने व्यवहार ही बदल दिया, आचरण ही बदल दिया। ये कैसा दोगलापन है? एक रखो। 

समझ में आ रही है बात?

यहाँ पर, सत्संग में बैठना, यूँ ही नहीं होता, पूरी तैयारी के साथ होता है। जैसे मंदिर में कहते हैं, नहा-धो के जाओ, पूरी तैयारी के साथ जाओ। जो पूर्ण लाभ पाने के इच्छुक हों, वो पहले पूर्णता से अनुशासन का अभ्यास करें।



सत्र देखें: आचार्य प्रशांत: सीख पाना मुश्किल क्यों?

निम्नलिखित माध्यमों से दुनिया के हर कोने से लोग आचार्य जी से जुड़ रहे हैं:-

१. आचार्य जी से निजी साक्षात्कार:
यह एक अभूतपूर्व अवसर है आचार्य जी से मुखातिब होकर उनसे निजी मुद्दों पर चर्चा करने का। यह सुविधा ऑनलाइन भी उपलब्ध है।
~~~~~
२: अद्वैत बोध शिविर:
अद्वैत बोध शिविर आचार्य जी के सानिध्य में समय बिताने का एक अद्भुत अवसर है। इन बोध शिविरों में दुनिया भर से लोग, अपने व्यस्त जीवन से चार दिन निकालकर, प्रकृति की गोद में शास्त्रों का गहन अध्ययन करते हैं और उनसे प्राप्त शिक्षा की प्रासंगिता अपने जीवन में देख पाते हैं। ऋषिकेश, शिवपुरी, मुक्तेश्वर, जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क, चोपटा, कैंचीधाम जैसे नैनाभिराम स्थानों पर आयोजित अनेकों बोध शिविरों में सैकड़ों लोग आच्रार्य जी के आशीर्वचनों से कृतार्थ हुए हैं।
~~~~~
३. आध्यात्मिक ग्रंथों पर कोर्स:
आध्यात्मिक ग्रंथों पर कोर्स, आचार्य प्रशांत के नेतृत्व में होने वाले क्लासरूम आधारित सत्र हैं। सत्र में आचार्य जी द्वारा चुने गये दुर्लभ आध्यात्मिक ग्रंथों के गहन अध्ययन के माध्यम से साधक बोध को उपलब्ध हो पाते हैं।
~~~~~
४. जागरुकता का महीना:
फाउंडेशन हर माह जीवन-सम्बन्धित एक आधारभूत विषय पर आचार्य जी के सत्रों की एक श्रृंखला आयोजित करता है। जो व्यक्ति बोध-सत्र में व्यक्तिगत रूप से मौजूद नहीं हो सकते, उन्हें फाउंडेशन की ओर से चुनिंदा सत्रों का ऑनलाइन प्रसारण उपलब्ध कराया जाता है। इस सुविधा द्वारा सभी साधक शारीरिक रूप से दूर रहकर भी, आचार्य जी के सत्रों में सम्मिलित हो पाते हैं।
~~~~~
५. आचार्य जी के साथ एक दिन
‘आचार्य जी के साथ एक दिन’ एक अनूठा अवसर है जिज्ञासुओं के लिए जो, इस पहल के माध्यम से अद्वैत आश्रम – ग्रेटर नॉएडा में हर महीने, एक पूरे दिन का समय आचार्य जी के साथ व्यतीत कर पाते हैं।
~~~~~
६. पार से उपहार : आचार्य जी के साथ सप्ताहंत
‘पार से उपहार’ एक सुनहरा प्रयास है आचार्य जी के सानिध्य में रहकर स्वयं को जान पाने का। इसका आयोजन प्रति माह, २ दिन और २ रातों के लिए, अद्वैत आश्रम – ग्रेटर नॉएडा में होता है।
~~~~~~
७. स्टूडियो कबीर
स्टूडियो कबीर एक ऐसी पहल है जो आज के प्रचलित संस्कृति में आदिकाल से पूजनीय संतों व ग्रंथों द्वारा प्रतिपादित बोध का पठन-पाठन एक संगीतमय तरीके से करती है। आम जनमानस में संतों व ग्रंथों के गीतों की लोकप्रियता बढ़ सके, इसके लिए स्टूडियो कबीर उन गीतों को याद करवाने का और सुंदर गीतों के माध्यम से प्रस्तुत करने के अथक प्रयास में संलग्न है।
~~~~~
८. फ्री-हार्ट्स शिविर: एक नयी दृष्टि में अध्यात्म
यह शिविर हर उस व्यक्ति के लिए है जो दिल से युवा हैं। इस शिविर के अंतर्गत आपसी सौहार्द्य और मैत्री का वर्धन, मनोवैज्ञानिक तथ्यों से रूबरू होना, जीवन की ग्रंथियों को सुलझाना, ध्यान की अभिनव विधियों का प्रयोग करना, नृत्य, गायन, कला-प्रदर्शन करना आदि शामिल है।
~~~~~~
९. त्रियोग:
त्रियोग हठ-योग, भक्ति-योग और ज्ञान-योग का अभूतपूर्व सम्मिश्रण है, जिसमें सम्पूर्ण स्वास्थ्य और सर्वांगीण विकास की प्राप्ति हेतु २ घंटे के योग-सत्र का अनूठा आयोजन किया जाता है।
~~~~~~
१०. बोध-पुस्तक
जीवन के महत्वपूर्ण विषयों पर आचार्य जी के व्यक्तव्यों का बेहतरीन संकलन हिंदी व अंग्रेजी भाषा में पुस्तकों के रूप में अमेज़न और फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध हैं:

अमेज़न: http://tinyurl.com/Acharya-Prashant

फ्लिपकार्ट: http://tinyurl.com/AcharyaBooks

~~~~~~
इन सुन्दरतम व अनोखी पहलों में भाग लेने के लिए, अपने आवेदन requests@prashantadvait.com पर भेजें, या श्री कुन्दन सिंह से संपर्क करें: +91-9999102998