आत्मबोध के अभाव में, आत्मा के अभाव में, प्रेम संभव नहीं है।

आपको बड़ा भ्रम है अगर आप सोचते है कि आप बिना स्वयं को जाने, सत्य को जाने, बिना पूरे तरीक़े से जाग्रत हुए प्रेमी हो सकते हैं। आप प्रेम को छू भी नहीं पाएँगे, आपकी जिंदगी बीत जाएगी और अधिकांश मानवता ऐसे ही जीती है। सत्तर साल, अस्सी साल, सौ साल के होकर मर जाते है, प्रेम का एक पल उन्हें नसीब नहीं हुआ होता है। हालांकि आप उनसें पूछेंगे तो वो आपसे कहेंगे कि हाँ हाँ बड़ा सुखद, स्वस्थ, सामान्य जीवन है मेरा! मेंने प्रेम किया है, मेंने प्रेम पाया है। पर उन्हें कुछ मिला नहीं होता।

आत्मबोध के अभाव में, आत्मा के अभाव में, प्रेम संभव नहीं है। और ये एक अच्छी खासी सज़ा है। जो आदमी अज्ञान से चिपटा रहे, अज्ञान के समर्थन मे खड़ा रहे, उसकी सज़ा ही यही है कि उसका जीवन प्रेम से खाली रहेगा आखिरी दम तक। उसके जीवन में ऊब रहेगी, बेचैनी रहेगी, चिढ़ रहेगी, इर्ष्या रहेगी, हिंसा रहेगी। उन सबको वो जानेगा, आसक्ति भी रह सकती है, मोह भी रह सकता है, वासना भी रह सकती है, प्रेम नहीं रहेगा। हाँ, वो वासना को, और आसक्ति को, और आकषर्ण को, प्रेम का नाम देता रहे तो दे सकता है। जिंदगी अपनी वो पूरी चाहे तो भ्रम में बिता सकता है, लेकिन प्रेम उसे कभी पता नहीं चलेगा।

प्रेम बूढों के लिये नहीं होता है, बेहोशी में कोई प्रेम नहीं होता है। तो, दोनों बाते है – पहली, जिसनें आत्मा को नहीं जाना, उसका मन और जीवन प्रेम से सदा शून्य रहेगा, खाली! और दूसरी बात, जिसने आत्मा को जान लिया अब उसके जीवन से सिर्फ प्रेम की ही धार बहेगी, उसके एक-एक संबंध में प्रेम छलकेगा, प्रेम के अतिरिक्त अब वो और कुछ हो नहीं सकता, बाँट नहीं सकता – ये भी एक र्निविकल्पता ही है। आप चाहें तो भी अब आप हिंसक नहीं हो सकते। हिंसक होने का अभिनय कर सकते है, पर वो अभिनय भी आप प्रेम के कारण ही कर रहे हैं।



पूर्ण लेख पढ़ें: आत्मा न हो तो शरीर से कौन प्रेम करेगा?