अब लगन लगी की करिये

 New Microsoft Office PowerPoint Presentation (2)अब लगन लगी की करिये

अब लगन लगी किह करिए?
ना जी सकीए ते ना मरीए।

तुम सुनो हमारी बैना,
मोहे रात दिने नहीं चैना,
हुन पी बिन पलक ना सरीए।
अब लगन लगी किह करीए?

इह अगन बिरहों दी जारी,
कोई हमरी प्रीत निवारी,
बिन दरशन कैसे तरीए?
अब लगन लगी किह करीए?

बुल्ल्हे पई मुसीबत भारी,
कोई करो हमारी कारी,
इक अजेहे दुक्ख कैसे जरीए?
अब लगन लगी किह करीए?

~बुल्ले शाह

 

आचार्य प्रशांत: तीन जगह होती हैं, जहाँ से हमारे कर्म निकल सकते हैं।

मन की तीन अवस्थाएँ हैं। मन केंद्र पर नहीं है, और उसे ये एहसास भी नहीं है कि वो केंद्र पर नहीं है। और वो कर्म करे जा रहा है। मन स्रोत से जुदा है और उसे स्रोत से जुदा होने का कोई ज्ञान भी नहीं है। उसकी नींद, मूर्छा इतनी गहरी है, इस स्थिति में वो जो भी करता है वो पागलपन है। इसको कहेंगे मन की विक्षिप्त अवस्था।

मन की दूसरी अवस्था वो है, जिसमें मन केंद्र से हटा तो है, पर इतना जग गया है कि जान गया है कि बेचैनी इसी कारण है क्योंकि अलग हूँ, दूर हूँ, जुदा हूँ – ये विरह है। विरह में, और विक्षिप्तता में साम्य यह है, कि दोनों में ही दूरी है। और विरह में और विक्षिप्तता में अंतर यह है, कि विक्षिप्त मन जानता भी नहीं कि दूरी है, और विरही मन जानता है कि दूरी है। इसी कारण कष्ट है।

विक्षिप्तता और विरह के अलावा, एक तीसरी भी होती है स्थिति मन की, जहाँ से मन के कर्म निकलते हैं। वो होती है, विभुता – पा लिया। अब इस पाने के बाद, मन नाच रहा है। उसका नाचना ही उसके कर्म हैं।  अब उसे कुछ और पाना नहीं है। उसे सिर्फ नाचना है, मस्त हो करके दौड़ना है, खेलना है, यूँ ही, बेमतलब। ये विभुता की स्थिति है। अधिकाँश व्यक्ति अधिकांश समय विक्षिप्तता में रहते हैं।

मन अधिकांश समय विक्षिप्तता में रहता है, कैसे? आप दुःख में होते हैं, और आपको दुःख का कारण भी नहीं पता होता। आपने कुछ नकली कारण बना लिए होते हैं। आपने कुछ नकली कारण बना लिए हैं, ये विक्षिप्तता है।

विक्षिप्तता की परिभाषा क्या है? दुःख में होना, और समझ भी न पाना कि दुःख क्यों कर? ये कह देना कि दुःख इसीलिए है क्योंकि अभी पैसे नहीं है। दुःख के नकली कारण हैं। पैसे नहीं हैं, संबंधों में खटास है, कुछ और अभी मिला नहीं है, इस तरह की बातें करना, ये विक्षिप्तता है।

विरह क्या है? कि दुःख तो है, पर अब पता चल गया है कि दुःख क्यों है। दुःख इसीलिए नहीं है कि पैसा नहीं है, पद नहीं है, कि प्रतिष्ठा नहीं है, कि पत्नी नहीं है, न, दुःख इसीलिए है, क्योंकि परमात्मा नहीं है।

विक्षिप्तता है, कि दुःख है, क्योंकि पैसा नहीं है, पद नहीं है, प्रतिष्ठा नहीं है, पत्नी नहीं है। और विरह है, कि  दुःख है क्योंकि परमात्मा नहीं है। संसार भर रखा है, परमात्मा का कुछ पता नहीं है। ये विरह है। और याद रखिये, जब आप कहते हैं कि परमात्मा नहीं है तो ये परमात्मा के होने की शुरुआत है। क्योंकि आपने जान लिया कि कुछ है, जो मुझे नहीं मिल रहा। है तो, उसके होने में कोई शंका नहीं, है तो, मैं पता नहीं क्यों उससे दूर हूँ। तो इसीलिए विरह कष्टकारी होते हुए भी शुभ है।

कल शायद तुम लोग पूछ रहे थे कि फरीद ने विरह पर क्या कहा है? “विरह विरह आखिये, विरह ही सुलतान, जिस तन विरह ना उपजे, सो तन जान मसान।” क्योंकि विरह की वेदना उठी नहीं कि ये पक्का हो गया कि तुम्हारी विक्षिप्तता अब जा रही है। विक्षिप्तता जा रही है, और विभुता अब दूर नहीं है। बात समझ में आ रही है?

विरह का आखिरी बिंदु होता है, पा लेना। वो वैभव हासिल कर लेना जिसके बाद कोई दरिद्रता नहीं होती। उसको कहते हैं “विभुता”। जो ऊँचे से ऊँचा हो सकता है, उसे पा लिया, विभुता, परम वैभव मिल गया। अब ऐसा नहीं लग रहा कि कुछ कमी है। तो उस कमी का कारण खोजने की भी कोई ज़रूरत नहीं। जो पाना था, जो पाने योग्य था, वो मिल गया।

विक्षिप्त आदमी की पहचान यही है कि वो दस तरफ दौड़ेगा, पागल को कभी देखा है, नहीं चल पाता सीधी राह। आप भी अगर पाते हैं, कि दस तरफ दौड़ते हैं, कभी इधर को आकर्षित होते हैं, कभी उधर को भागते हैं, कभी इधर से डरते हैं, कभी उधर का लालच आता है, ये विक्षिप्तता की निशानी है। आपको नहीं पता कि आपको कहाँ जाना है, इसीलिए आप दस दिशा भागते फिरते हैं। विक्षिप्त आदमी अंधाधुंध भागता है, और हर दिशा भागता है। जहाँ से ही उसे कोई उम्मीद बंधती है कि सुख मिलेगा, वहाँ भागता है। आप उसे कहिये, मौका आया है, कुछ पैसे कमाने का, उधर को भाग लेगा। आप कहिये, कहीं कुछ मौका आया है, मुनाफा बनाने का, वो भाग लेगा। उसे गुलाम बनाना बड़ा आसान है। थोड़ा सा डर दिखाईये, थोड़ा सा लालच दिखाईये, चल देगा आपके पीछे। बिखरी बिखरी सी उसकी चाल होगी।

विरही मन भी खूब भागता है, पर वो अब दस दिशा नहीं भागता, वो एक दिशा भागता है। विक्षिप्त मन की सारी दिशाएँ संसार की होती है, और विरही मन, एक ग्यारहवीं दिशा की और भागता है, अंतर दिशा। विक्षिप्त आदमी चारों तरफ भाग रहा है, दसों दिशाएँ। विरही भी भागता है, पर संसार में अपनी दिशा नहीं खोजता, वो भीतर दिशा खोजता है।

और विभुता में भागना ही ख़त्म हुआ, स्थापित हो गए। आसन मिल गया। या यूँ कह लो, जैसे तुम कह रहे थे ना, माँ- बच्चा, माँ की गोद मिल गयी, बस ख़त्म बात।



सत्र देखें: आचार्य प्रशांत, संत बुल्ले शाह पर: अब लगन लगी की करिये (Irresistible love)

निम्नलिखित माध्यमों से दुनिया के हर कोने से लोग आचार्य जी से जुड़ रहे हैं:-


१. आचार्य जी से निजी साक्षात्कार:
यह एक अभूतपूर्व अवसर है आचार्य जी से मुखातिब होकर उनसे निजी मुद्दों पर चर्चा करने का। यह सुविधा ऑनलाइन भी उपलब्ध है।
~~~~~
२: अद्वैत बोध शिविर:
अद्वैत बोध शिविर आचार्य जी के सानिध्य में समय बिताने का एक अद्भुत अवसर है। इन बोध शिविरों में दुनिया भर से लोग, अपने व्यस्त जीवन से चार दिन निकालकर, प्रकृति की गोद में शास्त्रों का गहन अध्ययन करते हैं और उनसे प्राप्त शिक्षा की प्रासंगिता अपने जीवन में देख पाते हैं। ऋषिकेश, शिवपुरी, मुक्तेश्वर, जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क, चोपटा, कैंचीधाम जैसे नैनाभिराम स्थानों पर आयोजित अनेकों बोध शिविरों में सैकड़ों लोग आच्रार्य जी के आशीर्वचनों से कृतार्थ हुए हैं।
~~~~~
३. आध्यात्मिक ग्रंथों पर कोर्स:
आध्यात्मिक ग्रंथों पर कोर्स, आचार्य प्रशांत के नेतृत्व में होने वाले क्लासरूम आधारित सत्र हैं। सत्र में आचार्य जी द्वारा चुने गये दुर्लभ आध्यात्मिक ग्रंथों के गहन अध्ययन के माध्यम से साधक बोध को उपलब्ध हो पाते हैं।
~~~~~
४. जागरुकता का महीना:
फाउंडेशन हर माह जीवन-सम्बन्धित एक आधारभूत विषय पर आचार्य जी के सत्रों की एक श्रृंखला आयोजित करता है। जो व्यक्ति बोध-सत्र में व्यक्तिगत रूप से मौजूद नहीं हो सकते, उन्हें फाउंडेशन की ओर से चुनिंदा सत्रों का ऑनलाइन प्रसारण उपलब्ध कराया जाता है। इस सुविधा द्वारा सभी साधक शारीरिक रूप से दूर रहकर भी, आचार्य जी के सत्रों में सम्मिलित हो पाते हैं।
~~~~~
५. आचार्य जी के साथ एक दिन
‘आचार्य जी के साथ एक दिन’ एक अनूठा अवसर है जिज्ञासुओं के लिए जो, इस पहल के माध्यम से अद्वैत आश्रम – ग्रेटर नॉएडा में हर महीने, एक पूरे दिन का समय आचार्य जी के साथ व्यतीत कर पाते हैं।
~~~~~
६. पार से उपहार : आचार्य जी के साथ सप्ताहंत
‘पार से उपहार’ एक सुनहरा प्रयास है आचार्य जी के सानिध्य में रहकर स्वयं को जान पाने का। इसका आयोजन प्रति माह, २ दिन और २ रातों के लिए, अद्वैत आश्रम – ग्रेटर नॉएडा में होता है।
~~~~~~
७. स्टूडियो कबीर
स्टूडियो कबीर एक ऐसी पहल है जो आज के प्रचलित संस्कृति में आदिकाल से पूजनीय संतों व ग्रंथों द्वारा प्रतिपादित बोध का पठन-पाठन एक संगीतमय तरीके से करती है। आम जनमानस में संतों व ग्रंथों के गीतों की लोकप्रियता बढ़ सके, इसके लिए स्टूडियो कबीर उन गीतों को याद करवाने का और सुंदर गीतों के माध्यम से प्रस्तुत करने के अथक प्रयास में संलग्न है।
~~~~~
८. फ्री-हार्ट्स शिविर: एक नयी दृष्टि में अध्यात्म
यह शिविर हर उस व्यक्ति के लिए है जो दिल से युवा हैं। इस शिविर के अंतर्गत आपसी सौहार्द्य और मैत्री का वर्धन, मनोवैज्ञानिक तथ्यों से रूबरू होना, जीवन की ग्रंथियों को सुलझाना, ध्यान की अभिनव विधियों का प्रयोग करना, नृत्य, गायन, कला-प्रदर्शन करना आदि शामिल है।
~~~~~~
९. त्रियोग:
त्रियोग हठ-योग, भक्ति-योग और ज्ञान-योग का अभूतपूर्व सम्मिश्रण है, जिसमें सम्पूर्ण स्वास्थ्य और सर्वांगीण विकास की प्राप्ति हेतु २ घंटे के योग-सत्र का अनूठा आयोजन किया जाता है।
~~~~~~
१०. बोध-पुस्तक
जीवन के महत्वपूर्ण विषयों पर आचार्य जी के व्यक्तव्यों का बेहतरीन संकलन हिंदी व अंग्रेजी भाषा में पुस्तकों के रूप में अमेज़न और फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध हैं:

अमेज़न: http://tinyurl.com/Acharya-Prashant

फ्लिपकार्ट: http://tinyurl.com/AcharyaBooks

~~~~~~
इन सुन्दरतम व अनोखी पहलों में भाग लेने के लिए, अपने आवेदन requests@prashantadvait.com पर भेजें, या श्री कुन्दन सिंह से संपर्क करें: +91-9999102998
__