माँग के तो देखो

SR_Generic_Hindi

 

“Ask and it shall be given to you, seek and you shall find, knock and it shall open unto you, For everyone who asks receives; he who seeks finds; and to him who knocks, the door will be opened।।।

Mathew (7:7)

मांगो, तो तुम्हें दिया जाएगा; ढूंढ़ो, तो तुम पाओगे; खटखटाओ, तो तुम्हारे लिये खोला जाएगा। 
क्योंकि जो कोई मांगता है, उसे मिलता है; और जो ढूंढ़ता है, वह पाता है और जो खटखटाता है, उसके लिये खोला जाएगा। 

मैथ्यू (7:7)

आचार्य पाशंत: तो बात सिर्फ तुम्हारी मर्ज़ी की है, जिन खोजा तिन पाईया। ये नहीं कहा गया है कि जिन खोजा, उनमे से कुछ लोगों ने पाया। ‘जिन खोजा तिन पाया’, बात सीधी है- खोजो और पाओ। असफलता का कोई प्रश्न ही नहीं है। मांगो, तो तुम्हें दिया जाएगा ठुकराए जाने का कोई प्रश्न ही नहीं है। खटखटाओ, तो तुम्हारे लिये खोला जाएगा दरवाज़े के बंद रह जाने का कोई प्रश्न ही नहीं है। सारी बात तुम्हारी मर्ज़ी की है।

कल संध्या से बात हो रही थी तो मुझसे कह रही थी कि “पता है लेकिन पता रहते हुए भी ध्यान के कुछ क्षण ही उपलब्ध हो पाते हैं, और फिर मन इधर-उधर चला जाता है, और तमाम चीज़ें हैं जो हावी हो जाती हैं, महत्वपूर्ण लगने लगती हैं।” तो यही कहा उनसे कि आपको वास्तव में जब उनकी आकाँक्षा होगी, मिल जाएगा, क्योंकि तब आप उसका महत्त्व समझोगे, उसे प्रथम वरीयता दोगे, और दिलोजान से उसको माँगोगे। जब उसे पहली वरीयता दी जाती है, जब उसे सर्वोच्च पायदान पर रखा जाता है, जब कहा जाता है कि ये नहीं तो कुछ नहीं। “एक तू ना मिला, सारी  दुनिया मिली भी तो क्या है?” जब मन स्पष्टतः इस बात को अनुभव करने लगता है, तब दरवाज़ा खुल गया। तुमने पूरी शिद्दत से अभी खटखटाया कहाँ?

और पूरी शिद्दत से खटखटाने का मतलब ये मत समझ लेना कि उसमे कोई बहुत श्रम लगता है, पूरी शिद्दत से खटखटाने का मतलब इतना ही है, साफ़ मन से खटखटाना। उसका मतलब ये नहीं है के लाठी डंडा ले कर के उस पर पिल पड़े हो दरवाज़े पर कि तोड़ ही देंगे। हमसे जब कहा जाता है कि दिलो जान से कोई काम करो तो ऐसी ही हमारी कुछ मानसिकता है कि हम उसका मतलब ये समझते हैं कि हथौड़ा और क्रेन, और बलप्रयोग, इसी तरह की छवियाँ मन में उठती हैं। नहीं, ये बात नहीं हो रही है।

 मांगो, तो तुम्हें दिया जाएगा” माँगों तो। व्यापार नहीं करो, माँगो। और माँगने का अर्थ जानते हो क्या होता है? पूर्ण समर्पण। हमें माँगना आता नहीं। याद करो आखिरी बार तुमने कब किसी से वास्तव में माँगा था? तुम्हें तो जब माँगना भी होता है, तो तुम तो यूँ दिखाते हो जैसे बदले में कुछ दे सकते हो। एक भिखारी भी तुम्हारी गाड़ी के पास आता है चौराहे पर तो कहता है, “पैसा देदो, दुआएँ ले लो।” वो ये नहीं कहता कि मांग रहा हूँ, वो कहता है, “व्यापार कर रहा हूँ।” तुम एक पैसा दोगे, वो दस लाख देगा। तुम मुझे दे नहीं रहे हो, तुम अपना ही भला कर रहे हो, एक पैसा दो, दस लाख लो, ऐसे ही हम भिखारी हैं। माँगते नहीं हैं ना, माँगने का अर्थ है स्पष्ट कहना, “दो।” और याद रखना जब तुम वास्तव में माँगोगे, तो उसमे याचना का भाव नहीं रहेगा, जब तुम झूठा व्यापार करने निकलते हो, तब तुम बनते हो भिखारी।

एक बच्चा जब अपनी माँ से मांगता है, तो उसमें न विनय है न याचना। “माँ है, माँग सकता हूँ, माँग रहा हूँ। हक है मेरा। न व्यापार कर रहा हूँ, न याचना कर रहा हूँ। भीख नहीं माँग रहा हूँ, तूने जन्म दिया है, तू ही ख़याल भी रख। तू नहीं रखेगा तो और कौन रखेगा?” और किसका ख़याल रख रहा है? कल क्या कह रहे थे बुल्ले शाह? “तुम ही तुम व्याप्त हो चारो तरफ – तुसी आप ही आये सारे हो।” तुम ही तुम तो व्याप्त हो चारो तरफ, अपना ही ख़याल रखोगे। मेरा ख़याल रखो, तो अपना ही ख़याल रखोगे।”

इतने हक से माँगने के लिए सिर्फ आत्मीयता चाहिए, प्रगाढ़ प्रेम। हक से जाकर के कहा, “दो।” और जब उतना प्रेम होता है, तो अक्सर माँगने की ज़रुरत ही नहीं पड़ती। अस्तित्व खुद समझ जाता है कि तुम्हारी ज़रूरतें क्या हैं? वास्तविक ज़रूरतें। और उन्हें पूरा कर देता है, तुम्हारे बिना माँगे। वो बात हमारे छोटे से मन कि समझ के बाहर की होती है।

तुम देखना जब तुम इस समस्त श्रृष्टि के साथ, एक अनुभव करोगे, तो तुम्हारी ज़रूरतें कैसे पूरी होने लगेंगी, तुम उसका कोई कारण नहीं खोज पाओगे, वो बात तर्क में समाएगी भी नहीं। तो तुम कह दोगे चमत्कार है, जादू है, हाँ जादू ही है, जादू ही तो है कि हम सांस ले पा रहे हैं, क्या जादू नहीं है? जादू ही तो है कि हम यहाँ बैठे हुए हैं। क्या जादू नहीं है? हाँ उसमे ओछे अहंकार को तृप्ति नहीं मिलती है, कि मैंने कमाया नहीं और मुझे मिल गया। पता नहीं कौन आकर के कैसे दे गया। हमें अच्छा लगता है कि अर्जित करें, पुरुषार्थ दिखाएँ।

पर अस्तित्व ऐसे नहीं चलता, जो तुम्हें वास्तव में चाहिए, वो तुमको धीरे से चुपके से आके कोई दे जाता है। तुम्हारी सारी ज़रूरतें तुमसे ज्यादा किसी और को पता हैं। वो दे जाएगा, धीरे से आकर के दे जाएगा, तुम्हें पता भी नहीं चलेगा, दे जाएगा। और अगर कुछ ऐसा है जिसके लिए तुम्हें बहुत यत्न करना पड़ रहा है, तो साफ़ समझ लो कि शायद वो तुम्हें मिलना ही नहीं चाहिए।

यहाँ हम लोग बैठे हुए हैं, हम में से कई लोग किसी लक्ष्य कि तरफ बहुत कोशिश करते होंगे, कमर कस लेते होंगे, मेहनत करते होंगे, और पाते हैं कि उन्हें मिल नहीं रहा। बहुत कोशिश कर रहे हो तब भी मिल नहीं रहा। व्यर्थ ही ऊर्जा मत गँवाओ, व्यर्थ ही मन खराब न करो, शायद वो तुम्हेँ मिलना चाहिए ही नहीं। छोड़ दो, क्या ज़रुरत है? एक सीमा के बाद जो हो न रहा हो, उसके होने का प्रयास नहीं करना चाहिए। “अनहोनी होनी नहीं, होनी होए सो होए” उस सीमा को जानना ही विवेक है।

कोशिश करो, एक सीमा तक कोशिश करो, उसके बाद भी अगर कुछ नहीं हो रहा तो शायद अस्तित्व की यही मर्ज़ी है, मान लो, न दुखी हो, न और छटपटाओ कोशिश कर करके। उसके आगे सिर्फ तड़प मिलनी है तुम्हें। तुम असम्भाव्य को परिनीत कर देना चाहते हो, वो हो सकता नहीं। तुम उलटी गंगा बहाना चाहते हो, वो बहेगी नहीं। उन मौकों पर थोड़ा सा बुरा लगेगा, मैं जो चाहता था, वो हुआ नहीं। पर जब बुरा लगे, तो अपने मन से बात करना, उससे कहना “तुझसे ज्यादा बड़ी मर्ज़ी किसी और की है और वो तेरा बड़ा हितैषी है, अच्छा हुआ, जो चाहता था तू वो हुआ नहीं”, “भला हुआ मेरी गगरी फूटी, अब मैं पनिया भरण से छूटी”।  

तुम्हारी मर्ज़ी हो जाए, बहुत बढ़िया, तुम्हारी मर्ज़ी न हो, उससे भी बढ़िया

समझ रहे हो बात को?

श्रोता: जी।

आचार्य प्रशांत: मांगो, तो तुम्हें दिया जाएगा; ढूंढ़ो, तो तुम पाओगे; खटखटाओ, तो तुम्हारे लिये खोला जाएगा।” उसमे ये कहीं पर नहीं है कि माँगते रहो। न यही है कि माँगते रहो, माँगो। बात सहज है, सरल है, कमरतोड़ मेहनत करने की बात नहीं है, पचास सालों तक साधना करने की बात नहीं है, सहज भाव से बच्चे की तरह माँ से एक हो जाने की बात है, और माँ पर थोड़ी श्रद्धा रखो, अगर तुम पाते हो कि कुछ माँग रहे हो, और वो नहीं मिल रहा, मैं दोहरा रहा हूँ इस बात को, तो जान लो कि उसका माँगा जाना ही उचित नहीं था।

नहीं तो तुम बड़ा कुतर्क कर सकते हो, तुम कह सकते हो कि “मैं तो तब से माँग रहा हूँ”। कि अचानक मेरे घर में दो करोड़ रूपये कोई रख जाए, पर ऐसा तो कोई रख के नहीं जाता। और जीसस बोल रहे हैं, “आस्क ऐंड इट शैल बी गिवेन।” ऐसा तो होता नहीं दिख रहा। मैं वहाँ पीछे बैठ कर के तब से तलाश  कर रहा हूँ कि कहीं इधर उधर छुपी हुई बियर के एक आध बोतल निकल आए, क्या पता पत्तों के नीचे, झाड़ी के नीचे कोई छोड़ ही गया हो, बड़ी तलाश  चालू है, पर मिलना होता नहीं दिख रहा है।

नहीं, जब कहा गया है, “मांगो, तो तुम्हें दिया जाएगा” तो उसमें ये मान कर के कहा गया है कि तुम बच्चे की तरह निर्मल मन से, आत्मीयता से माँगोगे। तुम्हारी भ्रष्ट कामनाओं के लिए नहीं कहा गया है कि “मांगो, तो तुम्हें दिया जाएगा”  कौन सी कामना भ्रष्ट है वो इसी से समझ लेना। जिस कामना की पूर्ती में बड़ा श्रम लगे, वही कामना अनुचित है।

ये बात हमारी रोज़मर्रा की व्यावहारिक बुद्धि के विपरीत जाती है, क्योंकि हमें सिखाया ये गया है कि अपनी कामनाओं को पूरा करने के लिए धरती आसमान एक कर दो, पहाड़ों को चीर दो और उनके बीच से रास्ता बना दो, और ऐसी ही कहानियों पर हमारा बचपन पला है, और ऐसे लोगों की हम बड़ी पूजा करते हैं, परम पुरुषार्थी मानते हैं उनको। लेकिन अस्तित्व का सच कुछ और है, अस्तित्व कहता है जो तुम्हें वास्तव में चाहिए, उसके लिए बहुत श्रम की आवश्यकता नहीं है।  “मांगो, तो तुम्हें दिया जाएगा

श्रम तो तुम फ़िज़ूल किये जाते हो।

तुम अपने चारो ओर देखो अभी, पानी को देखो, सूरज को देखो, इन पेड़ों को देखो, इन छोटे-छोटे पौधों को देखो, इनमें से कौन तुम्हे श्रमिक वर्ग का लग रहा है? कौन तुमको ऐसा लग रहा है कि खून पसीना एक करता है? कौन? तुम इनकी शक्लें देखो, ये ऐसा लग रहा है कि अब शाम के पाँच बज रहे हैं तो दफ्तर से लौट के आए हैं और चुसे हुए हैं? और आज इसी वक़्त दिल्ली की सड़कों पर, यहाँ से करीब तीन चार सौ किलोमीटर दूर, लोग इस समय घर लौट रहे होंगे, और उनकी शक्लें कैसी होती हैं? अस्तित्व में कुछ भी नहीं है जिसे इतना कर्ताभाव दिखाना पड़ता हो। देखो,  “मांगो, तो तुम्हें दिया जाएगा

इन्हें तो माँगना भी नहीं पड़ा और इन्हें मिल गया। माँगते भी नहीं, इतनी आत्मीयता है, माँगते भी नहीं और मिल जाता है, और हम ऐसे भिखारी हैं कि जीवन भर माँगते रहते हैं फिर भी यदा कदा ही मिलता है। और यदा कदा जब मिलता है तो हम उसका बड़ा उत्सव मनाते हैं, हम कहते हैं आज सफलता मिली। देखो, हमारी सफलताओं का महत्त्व ही इसीलिए है क्योंकि हज़ार बार यत्न करते हैं तो एक बार सफल होते हैं।

और

अजीब मन है हमारा, वो कहता है, हज़ार बार कोशिश करी, एक बार मिली तो चीज़ अद्भुत होगी, बड़ी कीमती होगी। हम ये देख ही नहीं पाते कि हज़ार बार कोशिश करके अगर एक बार मिलती है, तो शायद वो कोशिशें ही व्यर्थ थी। क्यों ये कोशिश करी? ये जो एक बार का मिलना था, ये बस संयोगवश हो गया, वर्ना नियम तो यही है कि नहीं मिलता, ठीक। तुम हज़ार बार कुछ करो, नौ सौ निन्यानवे बार न मिले, तो नियम क्या है? कि नहीं मिलेगा। और अपवाद क्या है? कि मिल गया। तो जो अपवाद है, उसका हम उत्सव मनाते हैं, और जो नियम है, उसको हम अनदेखा कर जाते हैं।

जीवन के, अस्तित्व के नियमों के विपरीत जी करके, तुम्हें कौन सा आनंद मिल जाना हैं? कबीर ने कहा है जो सहजता से मिले वो दूध है, वो खीर है, और जो खीचा-तानी से मिले, वो सिर्फ रक्त है, खून है। जीसस उससे अलग कोई बात नहीं कह रहे हैं, बिलकुल वही बात कह रहे हैं।



सत्र देखें: आचार्य प्रशान्त: माँग के तो देखो

निम्नलिखित माध्यमों से दुनिया के हर कोने से लोग आचार्य जी से जुड़ रहे हैं:-


१. आचार्य जी से निजी साक्षात्कार:
यह एक अभूतपूर्व अवसर है आचार्य जी से मुखातिब होकर उनसे निजी मुद्दों पर चर्चा करने का। यह सुविधा ऑनलाइन भी उपलब्ध है।
~~~~~
२: अद्वैत बोध शिविर:
अद्वैत बोध शिविर आचार्य जी के सानिध्य में समय बिताने का एक अद्भुत अवसर है। इन बोध शिविरों में दुनिया भर से लोग, अपने व्यस्त जीवन से चार दिन निकालकर, प्रकृति की गोद में शास्त्रों का गहन अध्ययन करते हैं और उनसे प्राप्त शिक्षा की प्रासंगिता अपने जीवन में देख पाते हैं। ऋषिकेश, शिवपुरी, मुक्तेश्वर, जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क, चोपटा, कैंचीधाम जैसे नैनाभिराम स्थानों पर आयोजित अनेकों बोध शिविरों में सैकड़ों लोग आच्रार्य जी के आशीर्वचनों से कृतार्थ हुए हैं।
~~~~~
३. आध्यात्मिक ग्रंथों पर कोर्स:
आध्यात्मिक ग्रंथों पर कोर्स, आचार्य प्रशांत के नेतृत्व में होने वाले क्लासरूम आधारित सत्र हैं। सत्र में आचार्य जी द्वारा चुने गये दुर्लभ आध्यात्मिक ग्रंथों के गहन अध्ययन के माध्यम से साधक बोध को उपलब्ध हो पाते हैं।
~~~~~
४. जागरुकता का महीना:
फाउंडेशन हर माह जीवन-सम्बन्धित एक आधारभूत विषय पर आचार्य जी के सत्रों की एक श्रृंखला आयोजित करता है। जो व्यक्ति बोध-सत्र में व्यक्तिगत रूप से मौजूद नहीं हो सकते, उन्हें फाउंडेशन की ओर से चुनिंदा सत्रों का ऑनलाइन प्रसारण उपलब्ध कराया जाता है। इस सुविधा द्वारा सभी साधक शारीरिक रूप से दूर रहकर भी, आचार्य जी के सत्रों में सम्मिलित हो पाते हैं।
~~~~~
५. आचार्य जी के साथ एक दिन
‘आचार्य जी के साथ एक दिन’ एक अनूठा अवसर है जिज्ञासुओं के लिए जो, इस पहल के माध्यम से अद्वैत आश्रम – ग्रेटर नॉएडा में हर महीने, एक पूरे दिन का समय आचार्य जी के साथ व्यतीत कर पाते हैं।
~~~~~
६. पार से उपहार : आचार्य जी के साथ सप्ताहंत
‘पार से उपहार’ एक सुनहरा प्रयास है आचार्य जी के सानिध्य में रहकर स्वयं को जान पाने का। इसका आयोजन प्रति माह, २ दिन और २ रातों के लिए, अद्वैत आश्रम – ग्रेटर नॉएडा में होता है।
~~~~~~
७. परमचेतना नेतृत्व
नेतृत्व क्या है? असली नायक कौन है?
एक असली नायक क्या लोगों को कहीं आगे ले जाता है, या वो लोगों को उनतक ही वापस ले आता है?
क्या नेतृत्व प्रचलित कॉर्पोरेट और शैक्षिक ढाँचे से आगे भी कुछ है?
क्या आप या आपका संस्थान सही नेतृत्व की समस्या से जूझ रहे हैं?

जब आम नेतृत्व अपनी सीमा तक पहुँच जाए, तब आमंत्रित कीजिये ‘परमचेतना नेतृत्व’ – एक अनूठा मौका आचार्य प्रशान्त जी के साथ व्यग्तिगत व संस्थागत रूप से जुड़कर जीवन के महत्वपूर्ण पहलुओं को जानने का।
~~~~~
८. स्टूडियो कबीर
स्टूडियो कबीर एक ऐसी पहल है जो आज के प्रचलित संस्कृति में आदिकाल से पूजनीय संतों व ग्रंथों द्वारा प्रतिपादित बोध का पठन-पाठन एक संगीतमय तरीके से करती है। आम जनमानस में संतों व ग्रंथों के गीतों की लोकप्रियता बढ़ सके, इसके लिए स्टूडियो कबीर उन गीतों को याद करवाने का और सुंदर गीतों के माध्यम से प्रस्तुत करने के अथक प्रयास में संलग्न है।
~~~~~
९. फ्री-हार्ट्स शिविर: एक नयी दृष्टि में अध्यात्म
यह शिविर हर उस व्यक्ति के लिए है जो दिल से युवा हैं। इस शिविर के अंतर्गत आपसी सौहार्द्य और मैत्री का वर्धन, मनोवैज्ञानिक तथ्यों से रूबरू होना, जीवन की ग्रंथियों को सुलझाना, ध्यान की अभिनव विधियों का प्रयोग करना, नृत्य, गायन, कला-प्रदर्शन करना आदि शामिल है।
~~~~~~
१०. त्रियोग:
त्रियोग हठ-योग, भक्ति-योग और ज्ञान-योग का अभूतपूर्व सम्मिश्रण है, जिसमें सम्पूर्ण स्वास्थ्य और सर्वांगीण विकास की प्राप्ति हेतु २ घंटे के योग-सत्र का अनूठा आयोजन किया जाता है।
~~~~~~
११. बोध-पुस्तक
जीवन के महत्वपूर्ण विषयों पर आचार्य जी के व्यक्तव्यों का बेहतरीन संकलन हिंदी व अंग्रेजी भाषा में पुस्तकों के रूप में अमेज़न और फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध हैं:

अमेज़न: http://tinyurl.com/Acharya-Prashant

फ्लिपकार्ट: http://tinyurl.com/AcharyaBooks

~~~~~~
इन सुन्दरतम व अनोखी पहलों में भाग लेने के लिए, अपने आवेदन requests@prashantadvait.com पर भेजें, या श्री कुन्दन सिंह से संपर्क करें: +91-9999102998
__