मरे बिना जन्म न पाओगे

New Microsoft Office PowerPoint Presentation (2)Verily, Verily, I say unto thee, Except a man be born again, he cannot see the kingdom of God. Except a man be born again, he cannot see the kingdom of God.

~Jhon (3:3)

  “मैं तुझ से सच सच कहता हूँ, यदि कोई नये सिरे से न जन्मे तो परमेश्वर का राज्य देख नहीं सकता।”

~Jhon (3:3)

आचार्य प्रशांत: “एक्सेप्ट अ मैन बी बॉर्न अगेन, ही कैन नॉट सी द किंगडम ऑफ़ गॉड” 

डर लगा? ये तो मारने की बात कर रहे हैं। ‘द्विज’ शब्द बड़ा महत्वपूर्ण है, द्विज समझते हो? जिसका दूसरा जन्म हुआ हो। भारत ने इस शब्द को बड़ा महत्त्व दिया है – द्विज। जो हिंदी अनुवाद है, वहाँ पर भी वो शब्द आ रहा है। पहला जन्म शरीर का होता है, ठीक,पहला जन्म सिर्फ शुरुआत होती है। पहला जन्म सिर्फ जैसे भूमिका लिखी गयी हो। जैसे प्रस्तावना लिखी गयी हो असली कहानी की। पहला जन्म तो समझ लो ऐसा है कि अभी गर्भ में आए, ताकि जन्म हो सके। पहले जन्म को जन्म न मानना। पहले जन्म को तो गर्भस्थ होना मानना।

किसी कवि ने कहा है कि हम सब गर्भों में जीते हैं। अगर मुझे ठीक से याद है तो कहा है “हम सब घटनाओं के जाये हैं, संदर्भो में जीते हैं, पैदा अभी हम हुए नहीं, हम सब गर्भों में जीते हैं।” कवि इन पंक्तियों में ऋषि बन गया है – “पैदा अभी हम हुए नहीं, हम सब गर्भों में जीते हैं।”

पहला जन्म, देह का जन्म तो ऐसा ही है कि जैसे अभी गर्भ में आए, दूसरा जन्म ही असली जन्म है। दूसरा जन्म है, जानना कि जन्म कहते किसको हैं। दूसरा जन्म है बोध में उतरना। पहला जन्म तो कुछ रखा नहीं है – यंत्रवत प्रक्रिया है, देह से देह मिली, रसायन से रसायन मिला, पुरुष कोशिका से स्त्री कोशिका मिली, और वो काम एक में भी हो सकता है। बिलकुल रासायनिक प्रक्रिया है। हम अच्छे से जानते हैं, परखनली में होती है। उसमें जन्म जैसा क्या है? सोचा नहीं कभी कि जो घटना परखनली में घट सकती है, उसको तुम जन्म कहना चाहोगे? बच्चे परखनलियों में पैदा हो रहे हैं, टेस्ट ट्यूब बेबीज़  सुना होगा।

तुम गर्भ में रखो, या परखनली में रखो, एक ही तो घटना घटी है। रसायन से रसायन, कोशिका से कोशिका –  ये कौन सा जन्म है? ये जन्म नहीं है। द्विज, जिसने दूसरा जन्म लिया हो। मैं उसे पहला जन्म कहूँगा, क्योंकि पहले जन्म को जन्म मान कर के हम बड़ी सहूलियत में जीने लगते हैं, हमें बड़ी आसानी हो जाती है कि जन्म ले तो लिया। नहीं, उससे बेहतर है, कि हम कवि को कहने दें जो उसने कहा, “हम अभी गर्भों में जीते हैं।” बहुत कम लोग हुए हैं, जो वास्तव में जन्म ले पाए।

एक बुद्ध जन्म लेता है, एक कबीर जन्म लेता है, नानक ओर जीसस जन्म लेते हैं। कृष्ण जन्म लेते हैं ओर नाचते हैं।

कुछ साल पहले की बात है, तब तक मेरी कहानी इतनी फैली नहीं थी, तो लोग आ जाते थे बताने कि आज मेरा जन्मदिन है। दो-तीन साल पहले की बात है, तो एक का फ़ोन आ गया – खुद तो करेगा नहीं, मैंने ही कर दिया — मैंने कहा, “क्यों किया भाई?” कहा, “जन्मदिन है, बधाई दे दे।”  मैंने कहा, “ठीक है, कभी जन्मदिन काश तेरा एक ऐसा भी आए, यही मेरा तेरे जन्मदिन पर सन्देश है कि, कभी तेरा कोई जन्मदिन ऐसा भी आये जब तू पैदा भी हो जाए।”

जन्मदिन ही मनाते जाओगे या कभी पैदा भी होओगे? मनाये जा रहे हो, मनाये जा रहे हो जन्मदिन और एक दिन बिना पैदा हुए मर गए। कहे, “हम मर गये।” तो पूछो, “पैदा कब हुए थे?” पैदा हुए नहीं मर गए, बड़ी त्रासदी है। और उतना ही मजेदार चुटकुला भी है – शवयात्रा जा रही है, किसकी? जो अभी पैदा ही नहीं हुआ।

कबीर को ये सुनाई पड़ता, उन्हें बड़ा मज़ा आता है, उलटबाँसी लिखते इसपर- “जो अभी पैदा नहीं हुआ, उसकी अर्थी जा रही है। और वो चार अन्य लोग उसे कन्धा दे रहे हैं, जो अभी खुद माँ के पेट में मचल रहे हैं।” ऐसे ही लिखते थे।

यहाँ लोग बैठे हैं, किसी ने बीस, किसी ने पच्चीस, किसी ने चालीस जन्मदिन मना लिए हैं, अच्छा चुटकुला है कि नहीं? जीसस कह रहे हैं, “बाहर आओ।”

कब तक पेट में ही हाथ पाँव मारते रहोगे? बड़ा अच्छा मौसम है, आओ खेलते हैं। बाहर आओ, तुम गर्भस्थ हो। अनंत समय से गर्भस्थ हो, तुम क्या सोचते हो, नौ ही महीने, नहीं। तुम नौ कल्पों से पेट में ही बैठे हुए हो। बाहर निकलने का नाम ही नहीं ले रहे। बाहर आओ, बढ़िया, ताज़ी हवा है। प्रेम के फूल खिले हैं। जीसस ही जीसस नाच रहे है।  कृष्ण हैं, उनकी गोपियाँ हैं। कहीं किसी ओशो की दाढ़ी उड़ रही है, कहीं कोई कृष्णमूर्ति एकांत में बैठे हैं। यही लोग हैं जो पैदा हो पाए, बाहर आओ, देखो। कबीर, रैदास के साथ चाय पी रहे हैं। मीरा, रैदास के चरणस्पर्श कर रही है। मुल्ला नसरुद्दीन अपने गधे को साफ़ कर रहा है। देखो।

हमें गर्भ में ही रहे आने में मज़ा आने लगा है, वहाँ अच्छा-अच्छा सा लगने लगा है। “देख अभिषेक अर्थी पर, बिना पैदा हुए मर जाए, चार कंधे कोख से कन्धा दिए जाए।” नहीं पैदा होना चाहोगे? एक औरत चली आ रही है, और उसने शैतान के कान पकड़ रखे हैं, कह रही है, “चल, ठीक करती हूँ तुझे।” उसे शैतान से भी प्रेम है। राबिया है। और वहाँ पर, कोने पर ग्यारह लोगों के साथ कोई बैठा हुआ है, जीसस हैं। मज़ा नहीं आएगा, उनके साथ उठोगे, बैठोगे, खाओगे, पियोगे?

जो वास्तव में जन्म ले लेता है ना, उसे अपनी पिछली ज़िन्दगी सपने की तरह ही लगती है। ऐसा नहीं है कि वो पिछली ज़िन्दगी को अस्वीकार कर देता है, नहीं। उसे साफ़ दिखाई देता है कि ऐसा लग रहा है कि जैसे किसी नशे में जी रहे थे। ऐसा लग रहा है जैसे तब जी ही नहीं रहे थे, ऐसा लग रहा है जैसे पहली बार साँस ली है। चेतना स्वभाव है हमारा, जब चैतन्य होंगे, तभी तो होंगे ना, और जब हैं, तभी तो जन्मे, जब हैं ही नहीं तो जन्मे कहाँ?



सत्र देखें: आचार्य प्रशांत, यीशु मसीह पर: मरे बिना जन्म न पाओगे

निम्नलिखित माध्यमों से दुनिया के हर कोने से लोग आचार्य जी से जुड़ रहे हैं:-


१. आचार्य जी से निजी साक्षात्कार:
यह एक अभूतपूर्व अवसर है आचार्य जी से मुखातिब होकर उनसे निजी मुद्दों पर चर्चा करने का। यह सुविधा ऑनलाइन भी उपलब्ध है।
~~~~~
२: अद्वैत बोध शिविर:
अद्वैत बोध शिविर आचार्य जी के सानिध्य में समय बिताने का एक अद्भुत अवसर है। इन बोध शिविरों में दुनिया भर से लोग, अपने व्यस्त जीवन से चार दिन निकालकर, प्रकृति की गोद में शास्त्रों का गहन अध्ययन करते हैं और उनसे प्राप्त शिक्षा की प्रासंगिता अपने जीवन में देख पाते हैं। ऋषिकेश, शिवपुरी, मुक्तेश्वर, जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क, चोपटा, कैंचीधाम जैसे नैनाभिराम स्थानों पर आयोजित अनेकों बोध शिविरों में सैकड़ों लोग आच्रार्य जी के आशीर्वचनों से कृतार्थ हुए हैं।
~~~~~
३. आध्यात्मिक ग्रंथों पर कोर्स:
आध्यात्मिक ग्रंथों पर कोर्स, आचार्य प्रशांत के नेतृत्व में होने वाले क्लासरूम आधारित सत्र हैं। सत्र में आचार्य जी द्वारा चुने गये दुर्लभ आध्यात्मिक ग्रंथों के गहन अध्ययन के माध्यम से साधक बोध को उपलब्ध हो पाते हैं।
~~~~~
४. जागरुकता का महीना:
फाउंडेशन हर माह जीवन-सम्बन्धित एक आधारभूत विषय पर आचार्य जी के सत्रों की एक श्रृंखला आयोजित करता है। जो व्यक्ति बोध-सत्र में व्यक्तिगत रूप से मौजूद नहीं हो सकते, उन्हें फाउंडेशन की ओर से चुनिंदा सत्रों का ऑनलाइन प्रसारण उपलब्ध कराया जाता है। इस सुविधा द्वारा सभी साधक शारीरिक रूप से दूर रहकर भी, आचार्य जी के सत्रों में सम्मिलित हो पाते हैं।
~~~~~
५. आचार्य जी के साथ एक दिन
‘आचार्य जी के साथ एक दिन’ एक अनूठा अवसर है जिज्ञासुओं के लिए जो, इस पहल के माध्यम से अद्वैत आश्रम – ग्रेटर नॉएडा में हर महीने, एक पूरे दिन का समय आचार्य जी के साथ व्यतीत कर पाते हैं।
~~~~~
६. पार से उपहार : आचार्य जी के साथ सप्ताहंत
‘पार से उपहार’ एक सुनहरा प्रयास है आचार्य जी के सानिध्य में रहकर स्वयं को जान पाने का। इसका आयोजन प्रति माह, २ दिन और २ रातों के लिए, अद्वैत आश्रम – ग्रेटर नॉएडा में होता है।
~~~~~~
७. परमचेतना नेतृत्व
नेतृत्व क्या है? असली नायक कौन है?
एक असली नायक क्या लोगों को कहीं आगे ले जाता है, या वो लोगों को उनतक ही वापस ले आता है?
क्या नेतृत्व प्रचलित कॉर्पोरेट और शैक्षिक ढाँचे से आगे भी कुछ है?
क्या आप या आपका संस्थान सही नेतृत्व की समस्या से जूझ रहे हैं?

जब आम नेतृत्व अपनी सीमा तक पहुँच जाए, तब आमंत्रित कीजिये ‘परमचेतना नेतृत्व’ – एक अनूठा मौका आचार्य प्रशान्त जी के साथ व्यग्तिगत व संस्थागत रूप से जुड़कर जीवन के महत्वपूर्ण पहलुओं को जानने का।
~~~~~
८. स्टूडियो कबीर
स्टूडियो कबीर एक ऐसी पहल है जो आज के प्रचलित संस्कृति में आदिकाल से पूजनीय संतों व ग्रंथों द्वारा प्रतिपादित बोध का पठन-पाठन एक संगीतमय तरीके से करती है। आम जनमानस में संतों व ग्रंथों के गीतों की लोकप्रियता बढ़ सके, इसके लिए स्टूडियो कबीर उन गीतों को याद करवाने का और सुंदर गीतों के माध्यम से प्रस्तुत करने के अथक प्रयास में संलग्न है।
~~~~~
९. फ्री-हार्ट्स शिविर: एक नयी दृष्टि में अध्यात्म
यह शिविर हर उस व्यक्ति के लिए है जो दिल से युवा हैं। इस शिविर के अंतर्गत आपसी सौहार्द्य और मैत्री का वर्धन, मनोवैज्ञानिक तथ्यों से रूबरू होना, जीवन की ग्रंथियों को सुलझाना, ध्यान की अभिनव विधियों का प्रयोग करना, नृत्य, गायन, कला-प्रदर्शन करना आदि शामिल है।
~~~~~~
१०. त्रियोग:
त्रियोग हठ-योग, भक्ति-योग और ज्ञान-योग का अभूतपूर्व सम्मिश्रण है, जिसमें सम्पूर्ण स्वास्थ्य और सर्वांगीण विकास की प्राप्ति हेतु २ घंटे के योग-सत्र का अनूठा आयोजन किया जाता है।
~~~~~~
११. बोध-पुस्तक
जीवन के महत्वपूर्ण विषयों पर आचार्य जी के व्यक्तव्यों का बेहतरीन संकलन हिंदी व अंग्रेजी भाषा में पुस्तकों के रूप में अमेज़न और फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध हैं:

अमेज़न: http://tinyurl.com/Acharya-Prashant

फ्लिपकार्ट: http://tinyurl.com/AcharyaBooks

~~~~~~
इन सुन्दरतम व अनोखी पहलों में भाग लेने के लिए, अपने आवेदन requests@prashantadvait.com पर भेजें, या श्री कुन्दन सिंह से संपर्क करें: +91-9999102998
__