जो तुम्हारी गुणवत्ता है और जैसा तुम्हारा जीवन है, तुम्हारे रिश्ते की भी वही गुणवत्ता होगी|

लोग आते हैं, बात करते हैं रिश्तों की, संबंधो की – दोस्त आते हैं, ज़्यादातर तो पति-पत्नी ही आते हैं या जोड़े| मैं कभी नहीं कहता कि तुम दोनों के “बीच” में कुछ गड़बड़ है, गड़बड़ दोनों के “बीच” में नही होती है- गड़बड़ “दोनों में” होती है|

तुम ठीक हो जाओ, और तुम ठीक हो जाओ तो तुम्हारा रिश्ता अपने आप ही ठीक हो जाएगा , तुम्हारा रिश्ता तुम दोनों की गुणवत्ता से कुछ जुदा थोड़ी है|

जो तुम्हारी गुणवत्ता है और जैसा तुम्हारा जीवन है, तुम्हारे रिश्ते की भी वही गुणवत्ता होगी|



लेख पढ़ें: क्या एक साथ रहने से प्यार बढ़ेगा?