फटा मन

जो मन द्वैत में जीता है, जो मन पदार्थ में जीता है, जो मन बस उसी को सच मान के जीता है, जो दिखाई-सुनाई देता है, जो स्पर्श किया जा सकता है, वही फटा मन है। और कोई नहीं फटा मन है। जो भी मन वस्तुओं में जिएगा, वही फटा मन है। जो भी मन इन्द्रियों में जिएगा, वही फटा मन है।


पूरा पढ़े: आचार्य प्रशांत कबीर पर: टुकड़ा टुकड़ा मन