29 वां अद्वैत बोध शिविर: भक्तियोग एवं प्रेमयोग की रसधार

29th-alcयही समय है परम की पुकार को सुनने का।

यही समय है उसमें डूब जाने का।

अपने ही ह्रदय के इस अलौकिक सफ़र का आनंद लीजिये।

समय और न व्यर्थ न करें

न सोचें, न समझें बस निश्चिन्त होकर ‘उसकी’ पुकार की ओर बढ़ चलें।

श्रद्धा के साथ जाकर, स्वयं को समर्पित करें।


 

29वां अद्वैत बोध शिविर

एक सुनहरा अवसर आचार्य प्रशांत के सानिध्य में रहने का और विश्व के अलग-अलग कोने से दुर्लभ ग्रंथों का अध्ययन करने का।

                                                            तिथि: 24 से 27 फ़रवरी

स्थान: वी.एन.ए रिसोर्ट, ऋषिकेश

इस अद्भुत अवसर को न गवाएँ

 

आवेदन भेजने हेतु ई-मेल करें: requests@prashantadvait.com

अन्य जानकारी हेतु संपर्क करें:

श्री अंशु शर्मा: +91 8376055661

श्री कुंदन सिंह: +9999102998


एक झलक २८वें बोध शिविर की 

 


सम्पादकीय टिप्पणी :

आचार्य प्रशांत द्वारा दिए गये बहुमूल्य व्याख्यान इन पुस्तकों में मौजूद हैं:

अमेज़नhttp://tinyurl.com/Acharya-Prashant
फ्लिप्कार्ट https://goo.gl/fS0zHf