जो ही जगेगा, वो ही करुणा से भर जाएगा

जो ही जगेगा, वो ही करुणा से भर जाएगा|

जागृति कठोरता नहीं देती, जागृति करुणा देती है और यदि आप पाएं कि जागृति से संवेदनशीलता मर रही है, आप में करुणा का भाव नहीं उदित हो रहा, तो स्पष्ट समझ लीजिएगा कि आपकी जागृति सिर्फ़ आपके मन की एक कल्पना है, आप जगे नहीं हैं|

जगा हुआ व्यक्ति पूरे संसार के लिए शुभ सन्देश होता है, सूरज की तरह होता है जो पूरी दुनिया का अँधेरा मिटाए| जगे हुए होने का अर्थ ही यही है कि, ”अब आत्म-केन्द्रित नहीं रहा, कि अब मेरा आत्म ब्रह्म हो चुका है|

अब आत्म अहंकार के साथ संयुक्त नहीं रहा, अब आत्म  वृहद हो चुका है, इतना फ़ैल चुका है कि उसमें सब समा गए हैं|अब मैं ये नहीं दावा कर सकता कि, ”किसी और का घर, अब मैं ये नहीं कह सकता कि, संसार का दुःख| मैं समष्टि के साथ एकाकार हूँ|’’


पूरा लेख पढ़ें: http://tinyurl.com/je9vzvt