जहाँ लालच वहाँ गुलामी

वक्ता: बाहर जो कुछ भी है, वो तो एफ़र्ट माँगेगा ही माँगेगा। ‘एफ़र्टलेसनेस’ कहाँ होती है? एफ़र्टलेसनेस कहाँ होती है?

श्रोता : मन में।

वक्ता: वहाँ एफ़र्टलेसनेस रहे, वहाँ पर अनावश्यक कॉनफ्लिक्ट न रहे। मानसिक एफ़र्ट का मतलब होता है, बहुत सारी बातें, जो सोच रहे  हैं; बहुत सारे विकल्प हैं, जो सामने आ रहे हैं; और आप उनमें उलझे हुए हैं। बाहर तो अगर आप एक शब्द भी बोलेंगे, तो उसमें एफ़र्ट लगेगा ही लगेगा। एक शब्द भी अगर बोला जाता है तो उसमे भी कुछ एनर्जी लगती है। बाहर की दुनिया में हमारे काम किस लिए होते हैं? जिसका मन अशांत है, वो बाहर बस पाना चाहता है। जिसका मन अशांत है, वो बाहर जो भी एफ़र्ट करता है, वो बस पाने के लिए होता है।

शिव सूत्र में ‘उदयमो भैरव:’ का अर्थ है कि जब मन शांत है, मन एफ़र्टलेस है, तब बाहर पाने जैसी कोई ऑब्लिगेशन नहीं रह जाती है कि बाहर कुछ पाना ही पाना है। वो ऑब्लिगेशन ख़त्म हो जाती है कि बाहर कुछ पाना ही पाना है। और फ़िर बाहर जो कुछ होता है, वो अगर होता है तो इसलिए कि गन्दगी है, साफ़ कर दो, साफ़ कर दो, संचय नहीं कर लो, साफ़ कर दो। कुछ पाना नहीं है जीवन में, कुछ पाना नहीं है जीवन में। पाने लायक जो है वो पहले ही है, पाने लायक जो है वो पहले ही है जीवन में। अधिक से अधिक सफ़ाई करनी है।

इस बात को समझिये, जिसका मन शांत नहीं है, वो एफ़र्ट करता है पाने के लिये, हमारे जो भी एफ़र्टस होते हैं, वो पाने के लिए एफ़र्टस होते हैं – ‘कुछ पा लूँ’। और जिसका मन शांत हो गया उसके एफ़र्टस होते हैं कि जो पाया ही हुआ है, जो इक्कठा किया हुआ है, वो हट किस प्रकार जाये?

वो पाने के लिए काम नहीं करता है, वो सफ़ाई के लिए काम करता है। उसको पाने में कोई रस नहीं रह जाता है। विचारों को ऊर्जा भी देना एक अशांत मन का ही काम है। स्टिम्युलस अगर ताकतवर हो तो वो आपके भीतर एक विचार उठा सकता है, ठीक है, पर वो विचार गति तभी पकड़ेगा जब आपका मन पहले ही तैयार है उसको वो ज़मीन देने के लिये। बीज जमीन पर कहीं बाहर से डल सकता है, बीज जमीन पर कहीं बाहर से डल सकता है, पर वो बीज पेड़ तभी बनेगा जब जमीन तैयार हो उस बीज को अपनाने के लिए, खाद देने के लिए, पानी देने के लिए।

यह तो जानी हुई बात है कि विचार का जो बीज होता है, जो स्टिम्युलस होता है, वो तो वहाँ से ही आता है, बहुत पक्की बात है। आप ने अभी कुछ सुना, उसके फल स्वरूप कोई विचार पैदा हो जायेगा, या इस  टीवी स्क्रीन पर देखें तो उसके कारण कोई विचार पैदा हो जायेग। वो बीज है, वो इनिशियल स्टिम्युलस है जिसके कारण विचार एक्टिवेट होता है। स्टिम्युलस आते रहेंगे, यदि हम दुनिया में हैं, चारो तरफ से स्टिम्युलस आ ही रहे हैं, हालाँकि उस स्टिम्युलस पर भी जितना काम करा जा सकता है, जितना उसको साफ़ रखा जाए, उतना अच्छा होता है। लेकिन वो नहीं पनपेगा, स्टिम्युलस बीज से पेड़ नहीं बनेगा अगर आपके दिमाग में पहले ही उसके लिए पोषण मौजूद नहीं है। दिमाग में खुराफ़ात मौजूद है तो छोटे से छोटा बीज भी पेड़ बन जाएगा। हम खुद विचारों को एनर्जी देते हैं। जैसे कि, मैं एक बात कह रहा हूँ, किसी के कान में पड़ती है, पड़ के निकल जायेगी, कहेगा ठीक है, हो गया, दूसरे के कान में पड़ेगी तो एक पूरी कहानी बन जाएगी।

एक ही बात एक आदमी के कान में पड़ेगी तो वो बस बात बन के रह जायेगी, दूसरे के कान में वो पूरी कहानी और कहानी पर कहानी पर कहानी पर कहानी बनेगी। यह दिमाग का अंतर है कि आपकी जो मूल वृत्तियाँ हैं, वो कैसी हैं, उनकी सफ़ाई हुई है या नहीं। हाँ, यहाँ पर लगेगा एफ़र्ट, यहाँ लगेगा। जिसके दिमाग का पूरा हिसाब-किताब ही ऐसा हो गया है कि उसमे खूब इकट्ठा हो गया है, उसको एफ़र्ट करना पड़ेगा उसको साफ़ करने के लिए, और जम के एफ़र्ट लगेगा। जब जम के इकट्ठा करा है तो सफ़ाई में जम के एफ़र्ट भी लगेगा। उसमें थोडा सा दर्द भी हो सकता है।

श्रोता : वो चीज़ होगी ही होगी, अपमानित महसूस करना आपका चुनाव होता है।

वक्ता: हाँ, और क्या। एर्नस्ट हेमिंग्वे के इसीलिए इतने प्रसिद्ध शब्द हैं: ‘पेन इज इनएविटेबल, सफ्फेरिंग इज ऑप्शनल’, (दर्द अपरिहार्य है, पीड़ा वैकल्पिक है) पेन तो संसार में होने का हिस्सा है, पेन संसार में होने का हिस्सा है, आप यहाँ बैठे हो, शरीर बहुत बेहतर महसूस करेगा अगर यहाँ एयर कंडीशनर भी हो। अभी कई लोगों के थोडा पसीना छलक आया होगा, एयर कंडीशनर चल रहा हो, तो नहीं होता। लेकिन वो आपको प्रभावित करे यह जरूरी नहीं है। इसी रूम में बैठे हुए दो अलग-अलग लोग हो सकते हैं – एक जिसको उस छलके पसीने के कारण बार-बार यह ख्याल आये, “मुझे असुविधाजनक महसूस हो रहा है” और दस बातें और ख्याल में आ जाएँ। पसीने से आपको कोई और स्थिति याद आ सकती है। आपको पसीना था – वो विचार आपको कहीं और ले जा सकता है, वो कहीं और ले जा सकता है, जैसे मैं कह रहा था, कहानी पर कहानी पर कहानी पर कहानी खड़ी हो सकती है।

और एक दूसरा आदमी होगा उसको भी शायद उतना ही पसीना आ रहा होगा क्यूंकि शरीर एक से ही हैं लेकिन उसके मन में कोई कहानी आगे नहीं बढ़ रही है। और यह काम संयोगवश नहीं होता कि यह तो रैंडमनेस है कि एक आदमी कितना सोच गया और दूसरा नहीं सोच पाया।

इस दूसरे आदमी ने सावधानी पूर्वक दो काम किये हैं:

१. कचरा इक्कठा होने दिया नहीं है, या परिस्थितियाँ अनुकूल रही हैं जिसके कारण कम कचरा इक्कठा हुआ है।

२. इसने सफ़ाई जम के करी है।

उस सफ़ाई का ही परिणाम होता है जो हमारी रोजाना कि ज़िंदगी होती है। आपका मन कैसा है उसका इंडिकेटर आपकी रोजाना की ज़िंदगी ही है। आप यहाँ बैठे हो और मन कहीं उड़ गया तो बस यही दिखाता है कि मन कैसा है, आपने पूरा जीवन कैसे जीया है। यह जानना है अगर कि कोई कैसा है, उसका पूरा इतिहास ही क्या है, क्यूंकि जब आप कहते हैं कि कोई कैसा है, तो उसके इतिहास की ही बात कर रहे होते हो, उसका मन कैसा है? मन इतिहास से ही निकल के आ रहा है।

सब कुछ जान जायेंगे, ‘आदमी एक खुली किताब है’ कहा जाता है, उसका अर्थ यही होता है। उसकी एक हरकत देखो और सब बता सकते हो। उसका जो हार्डवेयर है, पूरा पता चल जायेगा कि कैसा है, क्या है। अगर आपको कोई शांत दिखता है तो यह संयोग की घटना नहीं है, यह साधना से निकली हुई बात है। उसने काम करा है, उसने मेहनत करी है अपने ऊपर, शांति ऐसे नहीं टपक पड़ती। या फ़िर वो जबरदस्त रूप से सौभाग्यशाली रहा है कि उसकी कंडीशनिंग हुई ही नहीं। इन दोनों में से एक ही चीज हो सकती है। या तो उसको ऐसा वातावरण मिल गया है जहाँ उस पर धब्बे लगे ही नहीं या उसने जबरदस्त सफ़ाई करी है अपनी।

पहली बात की संभावना नगन्ये है। ऐसा होता ही नहीं कि आप पर धब्बे न लगें। संसार का मतलब ही है धब्बे, तो कंडीशनिंग तो होगी, हमेशा होगी।

श्रोता १: सर जब हम छात्रों से बात करते हैं तो बहुत सारे छात्र ऐसा क्यों कहते हैं कि उनके माँ-बाप और मित्र बहुत ज़्यादा सुपोर्टिव हैं? वो देख नहीं पाते हैं कि उनकी कंडीशनिंग की गयी है।  वो सारे तर्क देते हैं कि उन्होंने हमारी फ़ीस दी है, हमारी पढाई करायी है, और हमने जो दोस्त बनाये, वो भी अच्छे हैं।

वक्ता: जब यह स्थिति आ जाए जहाँ पर यह समझ में ही न आये कि मैं इन्फ़्लुएनस्ड हूँ, वहाँ पर उनको थोडा रोक कर के, पाँच मिनट बताना पड़ेगा कि तुम कंडिशन्ड, इन्फ़्लुएनस्ड सिर्फ़ तभी नहीं हो जब कोई ज़ोर से दिखा करके, चिल्ला कर के तुमको गुलाम बनाये। अब यह जो पंखा है, यह अपना बड़ा दोस्त है, इसका उदाहरण सब बता देता है। दो तरह से किसी से काम कराया जा सकता है, अगर मैं अभी तुमसे कहूँ कि यहाँ पर वैसे ही नाचो, गोल-गोल घूमो जैसे यह पंखा घूम रहा है, तो तुम कहोगे मुझसे ज़बरदस्ती करवाई जा रही है। क्यूंकि स्पष्ट दिख रहा है कि मैं तुमसे कुछ करवाना चाहता हूँ, कोई बाहरी प्रभाव है जो तुमसे काम करा रहा है।

लेकिन एक दूसरा तरीका है, वो यह है कि मैं तुमको पंखा ही बना दूँ। मैं तुमसे यह न कहूँ कि पंखे की तरह घूमो, मैं तुमको पंखा बना ही दूँ। मैं तुम्हारे दिमाग में ऐसी ही एक मोटर फ़िट कर दूँ। मैं तुमको पंखा ही बना दूँ, तुम्हारे दिमाग में एक मोटर ही फ़िट कर दूँ, जैसे इस पंखे के दिमाग में लगी है और फ़िर तुमको लगेगा कि गोल-गोल घूमना दुनिया का सबसे स्वाभाविक काम है, इसके अलावा और है ही क्या दुनिया में, बटन दबेगा नहीं और तुम घूमना शुरू कर दोगे।

यह बड़ी खौफ़नाक चीज होती है। तो उसको समझाना पड़ेगा कि देखो जब बात दिखती है कि अधिरोपित है, थोपी गयी है, तो हम सब विद्रोह करना चाहते हैं, पर अगर कंडीशनिंग इतनी सूक्ष्म हो कि वो पता ही न चले कि कंडीशनिंग है, तो आप उससे विद्रोह भी नहीं कर पाते। विद्रोह का सवाल भी तो तब पैदा होता है ना जब कुछ बचा रहे विद्रोह करने के लिए। किसी पंखे को आज तक विद्रोह करते हुए देखा है? “मैं गोल-गोल नहीं घूमूँगा, मुझे सीधी चाल चलनी है”? देखा है क्या? जब कंडीशनिंग इतनी पूरी हो जाये, इतनी कम्पलीट हो जाए कि कोई बचे ही न जानने वाला कि वो कंडिशन्ड है, तो वहाँ बड़ी दिक्कत होनी है।

सौभाग्य से हमारे साथ कभी ऐसा हो नहीं सकता क्यूंकि हम में हमेशा वो बचा रहेगा जो जान सकता है कि हम कंडिशन्ड हैं, उसी का नाम इंटेलिजेंस है, उसी का नाम आब्ज़र्वर है। तो ध्यान से देखोगे तो दिख जायेगा, फ़िर उनको उदाहरण देने पड़ेंगे दस तरीके के, वो उदाहरण हमें पता होने चाहिये। एक आदमी ने दुसरे से पूछा “स्कर्ट पहनना पसंद करोगे?” दूसरा बोला “नहीं”। पहले ने कहा, “दुनिया में ऐसे देश हैं जहाँ पर अच्छे-अच्छे मर्द स्कर्ट पहनते हैं, और यह फक्र की बात होती है कि हमने स्कर्ट पहन रखी है।” तुमको अभी स्कर्ट पहनने को कह दिया जाए तो यह तुम्हारे लिए बड़ी शर्मिंदिगी की बात हो जाएगी कि हम को स्कर्ट पहना के घुमा दिया, पर वहाँ स्कर्ट पहन के घूम रहे हैं।

इस बात को समझो ना, तुम जब छोटे से थे, तभी से तुम देख रहे हो कि तुम्हारी बहन को स्कर्ट पहनाई जा रही है और तुम पैंट पहन रहे हो और यह एक स्वाभाविक बात की तरह तुम्हारे मन में प्रवेश कराई गयी है। तुमको यह लगा ही नहीं कि तुम्हारे साथ जबरदस्ती की जा रही है, तुमको यह ही लगा कि ऐसा तो होता ही है। जैसे सूरज बड़ा और चाँद छोटा होता है, ठीक वैसे ही लड़की स्कर्ट और लड़का पैंट पहनता है। तुमको लगा, यह तो दुनिया का कोई नियम ही है, कोई मूल-भूत बात है। इसमें मूल-भूत बात कुछ नहीं है। धीरे-धीरे तुम्हारे दिमाग में इसको भर दिया गया था।

श्रोता : सबसे घटिया यहाँ पर सवाल होता है, “ज़बरदस्ती किया था तो क्या स्कर्ट पहनना शुरू कर दें?” मतलब बात कुछ और कही जा रही होती है मगर…

वक्ता: तो इसका जवाब यही है कि हाँ तुम पहनना शुरू भी कर दोगे, क्यूंकि जो आदमी दूसरों के कहने पर पैंट डाल सकता है, वो किसी और के कहने पर स्कर्ट भी डाल सकता है। लेकिन तुम चाहे पैंट पहनो या चाहे स्कर्ट, रहोगे फ़िर भी नंगे  ही, क्यूंकि न तुमने पैंट अपनी मर्जी से पहनी थी, अपनी समझ से पहनी थी, न तुमने स्कर्ट अपनी समझ से पहनी है। आओ चलो पैंट को समझते हैं। बताओ मुझे कि यह आदमी का शरीर है, यह उसकी एनाटॉमी है, मुझे बताओ, पैंट जैसी चीज क्यों होनी चाहिये? और दुनिया भर में हज़ार और आवरण होते हैं जो पहने जा सकते हैं कमर से नीचे, हम वो क्यों नहीं पहन सकते? पैंट ही क्यों? अच्छा बताओ यह जो शर्ट है, इसके नीचे पैजामा क्यों नहीं पहन सकते? अच्छा हँसो मत, अभी तुम सोच रहे हो, तुमको अजीब सा लग रहा है कि शर्ट के नीचे पैजामा  अजीब लगेगा। तुम्हे अजीब ही इसलिए लग रहा है क्यूंकि तुमने किसी को पहने देखा नहीं, अगर कोई ऐसा देश हो जहाँ लोग बचपन से ही शर्ट के साथ पैजामा पहनते हों तो तुमको बहुत स्वाभाविक सी बात लगेगी कि शर्ट के साथ पैजामा।

अब दक्षिण भारत में शर्ट के नीचे पैंट कम पहनी जाती है और लुंगी ज्यादा। अब यह तुम्हारे लिए अजीब सी बात हो गयी कि यह अच्छी फॉर्मल शर्ट के नीचे कोई पैंट की जगह लुंगी कैसे पहन सकता है?

श्रोता : स्कॉटलैंड में बहुत प्राइड के साथ, फक्र के साथ, स्कर्ट पहनते हैं, उनकी राष्ट्रिय ड्रेस है।

वक्ता: समझ रहे हो? तो सिर्फ़ यही चीज कि कपड़े कितने तरीके के होते हैं, उसको तुम देखोगे तो तुम हैरान रह जाओगे। तुमने कभी यह सोचने की कोशिश करी कि शर्ट का यही रूप क्यों होना चाहिए? और तुम उसको पहने जाते हो पहने जाते हो। दो चार लोगों को यूँही उठा के पूछो कि तुमने कभी यह जानना चाहा कि शर्ट में कॉलर होना ही क्यों चाहिये? पर हमको यह लगता है कि बहुत प्राकृतिक सी बात है, उसमे प्राकृतिक कुछ नहीं है, तुमको सिर्फ़ आदत लग गयी है, और सोचो अगर ऐसी चीज में आदत लग सकती है जो तुम्हारे ठीक सामने है, जिसपर तुम कभी भी सवाल उठा सकते हो, तो उन चीजों की आदत कितनी ज़्यादा लगेगी जिन पर सवाल उठाना ही मना है? तुम बचपन से ही मुक्त थे, तुम किसी से कभी भी कह सकते थे कि शर्ट में कॉलर नहीं चाहिए, मुझे बिना कॉलर की शर्ट बना कर के दो, पर तुमने कभी कहा नहीं। और भारत में कॉलर जो है, वो एक बहुत न्यूसेंस चीज़ ही है। आपको कॉलर चाहिए नहीं पर आप फ़िर भी कॉलर पहन रहे हो। एक गर्म देश में, एक उमस वाले देश में, कॉलर सिर्फ़ आपको परेशान करेगा, और पसीना जमा होगा यहाँ गर्दन पर। कॉलर से इतना ही होने वाला है। आपको कोई फायदा नहीं दे सकता है कॉलर। ठंडे देशों में वो आपको बचाएगा। गर्म देशों में उससे आपको खुजली और पैदा हो जाएगी गर्दन के पीछे और कूपित और महसूस करोगे कि हर समय कॉलर लगा हुआ है एक।

लेकिन आप सवाल नहीं करते, जब की कोई इसमें धार्मिक बात भी नहीं है। इसमें कोई बड़ा विद्रोह नहीं करना है। तो सोचो जिन बातों में विद्रोह करना है, वहाँ तो तुम सवाल बिलकुल ही नहीं कर पाओगे। जहाँ सवाल करना इतना आसान था, वहाँ भी नहीं कर पाए क्यूंकि वो बात बहुत नॉर्मल लगने लग गयी, तो जहाँ बात धार्मिक किस्म की हो, थोडा सेंसिटिव किस्म की हो, तो वहाँ पर कैसे सवाल उठा पाए होगे, नहीं उठा पाए होगे ना?

तो जब तुम कहते हो, “नहीं सब सपोर्टिव हैं”, तो तुम बस इतना ही कह रहे हो कि तुम्हारी और उनकी सोच एक सी है। जब तुम कहते हो “मेरे दोस्त सपोर्टिव रहे हैं” उस ‘सपोर्टिव’ से अर्थ तुम्हारा बस इतना है कि वो भी वही सोचते हैं जो तुम सोचते हो और इसी को कबीर ने कहा है “अँधा अँधे ठा लिया”। एक अँधा दूसरे अँधे को सपोर्ट कर रहा है, अब यह सपोर्ट है या क्या है? वो भी कंडिशन्ड, तुम भी कंडिशन्ड, तुम्हारे आपसी सपोर्ट का कोई अर्थ बनता है? यह सपोर्ट तो नहीं हो सकता ना?

अगर एक चूहादानी हो, उसमे चार चूहे हों, तो वो आपस में एक दूसरे को क्या सपोर्ट करते होंगे? क्या कर सकते हैं सपोर्ट? और बंद हैं, हमेशा से बंद हैं, क्या सपोर्ट करेंगे एक दूसरे को? उनको सपोर्ट भी तो कोई ऐसा ही करेगा ना जो उनसे थोडा अलग हो, जो उनकी दुनिया से बाहर का हो।

उनकी दुनिया बस इतनी सी है, उनको अगर उससे बाहर भी निकलना है, अपनी चूहेदानी से, उनको अगर बाहर भी निकलना है तो उनको कोई बाहर वाला चाहिए और बाहर वाले से उनका कोई परिचय ही नहीं है क्यूंकि उनको तो बस वो चार लोग पता हैं जो उनके पिंजरे के ही अंदर हैं। अब पिंजरे के अंदर के चार चूहे कुछ भी कर लें, क्रांति नहीं कर सकते। यूनियनबाज़ी कर सकते हैं। नारे लगा सकते हैं। पर पिंजरे से बाहर तो नहीं आ पाएँगे? कितना भी ज़ोर लगा लें अंदर के चार चूहे, मिलकर के पिंजरे से बाहर तो नहीं आ पाएँगे।

श्रोता : सर उनके लिए तो वह पिंजरे से बाहर ही है।

वक्ता: ठीक। उनके लिए वो पिंजरे से बाहर ही हैं, बस यही है। और यही कारण है कि वो सदा अंदर रहेंगे। जो अंदर होते हैं वो यह मान लें कि “मैं बाहर हूँ”, उनकी सम्भावना बड़ी कम हो जाती है बाहर आने की। इसीलिए यह जो पूरा आत्म-बोध का आयोजन है, यह हमेशा से कुछ लोगों के लिए ही रहा है जिन्हें सबसे पहले यह दिखाई दे जाए कि वो चूहे हैं जो बंद हैं। जिनको अभी यही भ्रम हो कि वो तो मुक्त हैं, उनकी मुक्ति नहीं हो सकती। तो बहुत हमब्लिंग चीज़ है, पहले तो यह देखना पड़ता है साफ़-साफ और उस पीड़ा से गुज़रना होता है कि “मैं चूहा हूँ और मैं पिंजरे में बंद हूँ”, उसके बाद ही उस पिंजरे से बाहर आने का कोई रास्ता सम्भव हो पाता है। यह काम कष्ट देता है, अहँकार को चोट लगती है।

कृष्णमूर्ति जब कहते हैं ना “फर्स्ट स्टेप इज दा लास्ट स्टेप” (पहला कदम ही आखिरी कदम है) पहला ही कदम अगर ले लिया ठीक-ठीक, “मैं चूहा हूँ, जो पिंजरे में बंद है”, तो अब लास्ट स्टेप दूर नहीं हैं। उसी को “फर्स्ट एंड दा लास्ट फ्रीडम” भी बोलते हैं। बहुत आज़ादी चाहिए यह बशर्त कहने के लिए कि मैं एक चूहा हूँ जो बंद है।

“आई ऍम ए रैट इन अ ट्रैप”, वन्स यू हैव सीन इट, इट्स ए वैरी हुम्ब्लिंग थिंग। दिमाग भन्ना जायेगा और मन यही करेगा कि इस बात को ठुकरा दो, स्वीकार ही मत करो। मैं स्वीकार न करूं तो शायद मैं चूहा ही ना रहूँ, मन का विशेष तर्क है यह, “मैं अगर स्वीकार ही ना करूं तो मैं चूहा ही नहीं रहूँगा”। बड़ी ईमानदारी चाहिए होती है, बड़ी मज़बूती चाहिए होती है, यह स्वीकार करने के लिए, “मैं चूहा हूँ और मैं बंद हूँ”। देयर इज दा फर्स्ट फ्रीडम, एंड देन दा लास्ट फ्रीडम इज नोट फार अवे, इन्फेक्ट इट्स वैरी क्लोज़।

श्रोता ५: सर अगर चूहे को पता भी चल गया कि वो पिंजरे में है, और वो बाहर निकलने की कोशिश करे तो उसके ऊपर बहुत सारी भेंट फेंकी जाती हैं अंदर से, ताकि वो कभी बाहर निकल ही न पाए।

वक्ता: समझो तो, अंदर वाले चूहे किसको भेंट फेंक रहे हैं? एक चूहे को, चूहे को।

श्रोता ५: हाँ चूहे को।

वक्ता: उस भेंट से आकर्षित कौन होगा?

श्रोता ५: आकर्षित होना तो हमारे हाथ में ही होगा।

वक्ता: चूहा ही तो आकर्षित होगा।

श्रोता ५: हाँ चूहा ही होगा।

वक्ता: और अगर तुम जान जाओ कि तुम चूहे तो हो नहीं, तो वो भेंट तुम्हें आकर्षित करेगी?

श्रोता ५: नहीं बिलकुल नहीं।

वक्ता: वो भेंट भी तुम्हें तब तक आकर्षित कर रही है, जब तक तुमने अपने आप को चूहा बना रखा है।

श्रोता 3: वैसे जो चूहे ट्रैप्ड हैं, वो सब अगर मिल के कोशिश करें तो वह बाहर निकल सकते हैं।

वक्ता: नहीं, बिलकुल भी नहीं, बिलकुल भी नहीं। इसको समझिएगा ज़रा, जो चूहा है, जो ट्रैप है, जो भेंट है, उसको समझिए क्या है पूरा मामला। आप अंदर बंद ही तभी तक हो जब तक आपने अपने-आप को चूहा मान रखा है, क्यूंकि वो जो ट्रैप है वो सिर्फ़ चूहों को कैद कर सकता है। समझ रहे हो? वो जो ट्रैप है, जो पिंजड़ा है, जो चूहेदान है, वो सिर्फ़ चूहों को ही फ़साने के लिए बनी है, वो सिर्फ़ चूहों को ही फ़साने के लिए बनी है। उसमें आपको फसाए रखने के लिए आपको जितने लालच दिए जा रहे हैं वो सारे लालच सिर्फ़ चूहों को आकर्षित कर सकते हैं। जिस क्षण आपने पहचान लिया कि मैं कौन हूँ, चूहा होना मेरा स्वभाव नहीं, उस क्षण वो भेंट आपको आकर्षित ही नहीं करेगा ।

श्रोता २: भेंट कुछ और हो, भेंट यह हो कि “तुम बाहर निकलो, मैं सुसाइड कर लूँगा। मैं मजाक नहीं कर रहा!”

वक्ता: हाँ बिलकुल समझ रहा हूँ, पर यह जो बात है यह किस को रोक सकती है?

श्रोता ४: जो उसके जैसा ही हो।

वक्ता: याद रखना कि यह जो द्वैत के दो सिरे होते हैं, दिखते विपरीत हैं, होते एक हैं। धमकाने वाला और धमक जाने वाले में कोई बहुत अंतर नहीं हो सकता। यह विपरीत दिख रहे हैं पर एक ही हैं। डराने वाले और डर जाने वाले में कोई विशेष अंतर नहीं होता है। एक आदमी हिंसा करने आता है, आप डर जाते हो, हिंसा जो कर रहा है, लगता है कि वो अपराधी है और जो डर रहा है, वो बेचारा है। जबकि सच यह है कि डर जब बाहर की ओर बहता है तो हिंसा के रूप में दिखाई देता है और हिंसा जब अपने ही मन पर छा जाती है तो वो डर के रूप में दिखाई देती है।

aa

आप डरे हो, यही डर अगर बाहर की ओर चैनेलाइज़ हो जाए तो हिंसा का रूप ले लेगा और आपकी ही हिंसा जब आपके ही मन को सताने लग जाए तो वह डर कहलाती है। हिंसा और डर एक ही चीज़ हैं, इसी तरीके से धमकाने वाला और उस धमकी से डर जाने वाला बिलकुल एक ही मिट्टी के बने हुए हैं। उनका एक्सप्रेशन बस अलग-अलग है। एक अभी धमका रहा है, एक धमक जा रहा है, थोड़ी देर में वो रोल्स बदल भी लेंगे, थोड़ी ही देर में वो रोल्स बदल भी लेंगे, कोई बड़ी बात नहीं है। बात यह नहीं है कि मैं द्वैत के एक सिरे से दूसरे पर कूद जाऊँ, बात यह है कि मैं दोनों सिरों के आगे कूद जाऊँ, वही बियॉन्डनेस है, उसी को ट्रानसेनडेंस कह रहे थे।

मुझे कोई कैसे डरा सकता है या लालच दे सकता है अगर मेरे मन में डरने के या लालच के बीज और उसके लिए ज़मीन मौजूद ही न हो? कोई मुझे कैसे डरा पाएगा अगर डरने के लिए मैं तैयार ही न हूँ? उत्सुक ना हूँ? कोई मुझे लालच कैसे दे पाएगा अगर मैं लालची न हूँ? आप बताइए कोई मुझे लालच दे कैसे पाएगा अगर मैं लालची न हूँ?

हमें यह बहुत ध्यान से देखना होगा, हमें डराने वाला तत्व, देखिए इसको आप सूत्र की तरह जीवन में इस्तेमाल कर सकते हैं, जब भी कभी कोई बहुत हावी हो रहा हो आपके ऊपर, कोई परिस्तिथि, कोई व्यक्ति, या कुछ भी, कोई विचार, तो उससे लड़िये मत, अपने मन को तलाशिये, उसमें ऐसा क्या है जिसका उपयोग करके वो व्यक्ति आपको नचा रहा है? अगर कोई आप पर हावी हो रहा है तो अपने मन को तलाशिये कि उसमें ऐसा क्या है जिसका उपयोग करके वह व्यक्ति आपको नचा रहा है।

कोई बार-बार आपके ऊपर ऐसे फंदा डालता है और आपको फंसा लेता है, तो निश्चित रूप से कुछ हुक है आपके पास जिनमें वो फंदा फ़स जा रहा है। आप उन फँदों से लड़ेंगे या उन हुकों को ही हटा देना चाहेंगे?

श्रोता (एक स्वर में): हुक।

वक्ता: अगर इस दीवार पर खूंटियाँ  न हों तो आप इस पर अपनी शर्ट टांगेंगे कैसे? अगर कोई बार-बार आ कर के इस दीवार पर अपने गंदे कपड़े टाँग जा रहा है तो इसका अर्थ क्या है? इस दीवार पर खूंटियाँ  मौजूद हैं, अगर चाहते हो इस दीवार पर कोई आ के अपने गंदे कपड़े ना टाँगे तो क्या करना होगा? लोगों से लडूँ? पूरी दुनिया से लडूँ? और खूंटियाँ  मौजूद हों तो किसी को भी लालच हो सकता है, “लाओ यार टाँग ही दो, मस्त दीवार है, खूंटी  है, लाओ इस पर टाँग ही दो।” खूंटियाँ  मौजूद हैं तो कोई ना कोई आ ही जाएगा गंदगी मचाने के लिए। दुनिया भर से लडूँ? नोटिस लगाऊँ: “गधे के पूत यहाँ न…” वाला ? या खूंटियाँ  ही हटा दूँ?

श्रोता ३: खूंटियाँ  ही हटा दूँ।

वक्ता: खूंटियाँ  हटा दू ना, हमारे पास वो सारी खूंटियाँ मौजूद हैं जिसका लोग इस्तेमाल कर रहे हैं। उनको हटा दीजिए, कोई आपका इस्तेमाल नहीं कर पाएगा। निश्चित आपको किसी बात का लालच होगा जिसका उपयोग करके कोई आप पर हावी होता है। निश्चित रूप से आपको कोई लालच है और वो सामने वाला जानता है कि आपको क्या लालच है, आप वो लालच हटा दीजिए, वो व्यक्ति आपके जीवन पर हावी नहीं हो पाएगा, कोई परिस्थिति हावी नहीं हो पाएगी, समाज में, संसार में, कोई बड़े से बड़ा आप पर हावी नहीं हो पायेगा।

हम जो बार-बार अपनी असमर्थता का रोना रोते हैं, वह कुछ नहीं है, हम एक बड़ा दोहरा खेल खेलना चाहते हैं। हम कहते हैं, हमारा लालच भी बरकरार रहे और हम गुलाम भी न बनें। यह अब नियमों के विपरीत बात कर रहे हैं आप। आप चाहते हैं आपका लालच भी बरकरार रहे और आपको गुलाम भी न बनना पड़े। जहाँ लालच है, वहाँ गुलामी है। जिसको गुलामी छोडनी है, उसे लालच छोड़ना होगा। अगर आप बार-बार पा रहे हैं कि आप गुलाम बन जा रहे हैं, तो देखिए कि क्या-क्या लालच है, उस लालच को हटा दीजिए और गुलामी को हटा दिया आपने।

jp

श्रोता २: तो वो जो खूंटी है, एक इंसान का बेटा, बेटी या पत्नी बन जा रहे हैं?

वक्ता: न, न, वो तो एक बाहरी चीज़ है। चलो पैदा हुए हो तो किसी के तो रिलेटिव कहलाओगे ही। बाहर अगर आपको एक नाम दे दिया गया तो कोई बड़ी बात नहीं हो गयी। हम सब यहाँ अपना-अपना नाम तो ले के बैठे ही हैं। नाम की उपयोगिता है, एक-दूसरे से बात करने में उस नाम के साथ क्या लालच जुड़ा हुआ है, वो देखो ना, वहाँ कोई लालच जुड़ा है क्या?

श्रोता ५: सर नाम तो बस एक रेकोग्निशन बताता है।

वक्ता: हाँ, अगर वो सिर्फ़ रेकोग्निशन बताए तो कोई दिक्कत नहीं होगी, फ़िर उसकी उपयोगिता बस है। पर उसके साथ कुछ और भी जुड़ गया है, क्या? बेटा होना क्या है मेरे लिये? पिता की सम्पत्ति का वारिस होना तो नहीं है? पिता के घर में रहना तो नहीं है कहीं? पिता की सहूलियतों पर कब्ज़ा जमाना तो नहीं है कहीं? अगर बेटे होने का यह अर्थ है मेरे लिए तो अब पिता मुझ पर हावी हैं, इसमें ताज्जुब क्या है, हो के रहेगा ऐसा। जिस बेटे की नज़र पिता द्वारा दी जा रही सहूलियतों पर हो, उस बेटे पर पिता हावी होगा ही। पिता का इसमें कोई कसूर नहीं, आपने खूंटियाँ  तैयार कर रखी हैं कि “आओ और मुझ पर हावी हो जाओ”।

~ ‘शब्द-योग’ सत्र पर आधारित। स्पष्टता हेतु कुछ अंश प्रक्षिप्त हैं।

सत्र देखें:  जहाँ लालच वहाँ गुलामी (With greed comes slavery)

इस विषय पर और लेख पढ़ें:

लेख १: लालच कहाँ से आता है?

लेख २: डर-डर के मर जाना है?

लेख ३: डर, बीमारी जो आदत बन जाती है