त्रासदी

  • मनुष्य जन्म की सबसे बड़ी त्रासदी: हारे हुए को जिताने की कोशिश।”

 

——————————————————

उपरोक्त सूक्तियाँ श्री प्रशांत के लेखों और वार्ताओं से उद्धृत हैं

Leave a Reply