कार्य

  • अगर किसी काम को करने से कुछ खोता हो, तो उसे मत करो। और अगर किसी काम को करने से कुछ मिलता हो, तो उसे भी मत करो। अकारण जियो; बड़ा मज़ा आएगा।”

——————————————————

उपरोक्त सूक्तियाँ श्री प्रशांत के लेखों और वार्ताओं से उद्धृत हैं

Leave a Reply