अतीत

  • हम जो हैं उसका कारण अतीत में ही है, पर यही रास्ता भी है मुक्ति पाने का।”

 

  • हमें लोगों के कहने की परवाह ज़्यादा है इसलिए अतीत के ढर्रों को छोड़ना मुश्किल लगता है। जो जग गया उसे रात के सपने से क्या मतलब।”

 

  • आशा बचाती है अतीत के कचरे को।”

 

  • हम जो हैं उसका कारण अतीत में ही है, पर यही रास्ता भी है मुक्ति पाने का।” 

 

  • “गलती वो नहीं जो आपने अतीत में करी थी। अतीत में जो हो गया, सो हो गया। अतीत में कोई गलतियाँ नहीं होती। गलती होती है मात्र वर्तमान में।”

 

  • “वर्तमान में अतीत की गलतियों के स्मृति अपने आप में एक बड़ी गलती है। वर्तमान में उपस्थिति नहीं, इससे बड़ी गलती क्या हो सकती है?”

——————————————————

उपरोक्त सूक्तियाँ आचार्य प्रशांत के लेखों और वार्ताओं से उद्धृत हैं

Leave a Reply